ताइवान से दक्षिण कोरिया रवाना हुई पोलेसी, कहा- कई और अमेरिकी नेता ताइवान आएंगे  

कल रात पोलेसी ताइवान के राजधानी ताइपे पहुंचीं। इस दौरान पोलेसी ने चीन का नाम लिए बगैर उस पर निशाना साधा। पोलेसी ने कहा कि हम ताइवान में लोकतंत्र के समर्थक हैं।

ताइपे: अमेरिकी सीनेट की स्पीकर नैंसी पोलेसी ताइवान से दक्षिणी कोरिया के लिए रवाना हो गई हैं। रवाना होने से पहले उन्होंने कहा कि हम ताइवान की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध हैं। हंगामों से हम रूकने वाले नहीं हैं। कई ओर अमेरिकी नेता ताइवान आएंगे।

 

और पढ़िए –  अमेरिका में सात साल का बच्चा वॉशिंग मशीन के अंदर मिला मृत

 

 

ताइवान के साथ अमेरिका की एकजुटता महत्वपूर्ण है। ताइवान दुनिया के सबसे स्वतंत्र समाजों में से एक है।

कल रात पहुंची थी

कल रात पोलेसी ताइवान के राजधानी ताइपे पहुंचीं। इस दौरान पोलेसी ने चीन का नाम लिए बगैर उस पर निशाना साधा। पोलेसी ने कहा कि हम ताइवान में लोकतंत्र के समर्थक हैं। हम ताइवान के 23 मिलियन लोगों के साथ हैं और क्षेत्र में हम शांति चाहते हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि हम ताइवान का आर्थिक विकास चाहते हैं। पोलेसी ने कहा कि मौजूदा स्थिति को बदलने का विरोध करते रहेंगे। हमारी यात्रा सुरक्षा, आर्थिक साझेदारी पर केंद्रित है। हम ताइवान के पास दोस्ती के लिए आए हैं।

ताइवान की बात सुनने आईं हूं

अमेरिकी स्पीकर पेलोसी ने ताइवानी मीडिया से चर्चा में कहा, ‘मैं यहां ताइवानी जनता की बात सुनने और यह सीखने के लिए आई हूं कि हम एक साथ कैसे आगे बढ़ सकते हैं। हम ताइवान को कोविड से सफलतापूर्वक निपटने के लिए बधाई देती हैं। यह स्वास्थ्य, अर्थव्यवस्था, सुरक्षा और शासन का मुद्दा भी है।’ पेलोसी ने यह भी कहा कि ताइवान सरकार से बातचीत में जलवायु संकट से पृथ्वी को बचाने के लिए मिलकर काम करने पर बात करेंगे। हमारी यात्रा मानवाधिकारों, अनुचित व्यापार परंपराओं और सुरक्षा मुद्दों के बारे में है।

 

और पढ़िए – प्रदर्शनकारी मुझसे घर जाने के लिए ना कहें, मेरा घर जला दिया गया: श्रीलंका के राष्ट्रपति विक्रमसिंघे

चीन बौखलाया 

इस बीच नैंसी पेलोसी की यात्रा से चीन और अमेरिका के बीच तनाव काफी बढ़ गया है। चीन की सेना ताइवान स्ट्रेट की ओर बढ़ गई है। यह स्ट्रेट ताइवान को चीन की मुख्य भूमि से अलग करता है। उधर, चीन के 20 लड़ाकू विमान ताइवान में घुस गए। अमेरिका ने भी पेलोसी की सुरक्षा को देखते हुए हिंद-प्रशांत क्षेत्र में अपने युद्धपोत यूएसएस रोनाल्ड रीगन और फिलीपींस सागर में अन्य युद्धपोत को तैनात कर दिया है। इसके साथ पेलोसी पिछले 25 साल में स्वशासित द्वीप का दौरा करने वाली अमेरिका की सर्वोच्च अधिकारी बन गई हैं। चीन दावा करता रहा है कि ताइवान उसका हिस्सा है। वह विदेशी अधिकारियों के ताइवान दौरे का विरोध करता है क्योंकि उसे लगता है कि यह द्वीपीय क्षेत्र को संप्रभु के रूप में मान्यता देने के समान है।

 

 

और पढ़िए –  दुनिया से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

 

 

Click Here – News 24 APP अभी download करें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक, टेलीग्राम, गूगल न्यूज़.

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
Exit mobile version