Tuesday, June 2, 2020

गूगल ने ब्राउजर क्रोम में किया ये बड़ा बदलाव

दुनिया में कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन में घर पर रहते हुए इंटरनेट का जमकर प्रयोग कर रहे हैं। ऐसे में लोगों को किसी तरह की कोई दिक्‍कत ना हो और उनके डाटा का कोई दुरुपयोग ना कर पाए, इसको देखते हुए गूगल ने बड़ा कदम उठाया है। गूगल ने नए टूल और क्रोम ब्राउजर की गोपनीयता एवं सुरक्षा सेटिंग्स को डेस्कटॉप पर रोल आउट करना शुरू कर दिया है।

नई दिल्‍ली: दुनिया में कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन में घर पर रहते हुए इंटरनेट का जमकर प्रयोग कर रहे हैं। ऐसे में लोगों को किसी तरह की कोई दिक्‍कत ना हो और उनके डाटा का कोई दुरुपयोग ना कर पाए, इसको देखते हुए गूगल ने बड़ा कदम उठाया है। गूगल ने नए टूल और क्रोम ब्राउजर की गोपनीयता एवं सुरक्षा सेटिंग्स को डेस्कटॉप पर रोल आउट करना शुरू कर दिया है।

गूगल के इस बदलाव के बाद यूजर्स को यह पता चल सकेगा कि वे दूसरों के साथ क्या डेटा साझा कर रहे हैं। इसके साथ ही यूजर्स अब आसानी से वेब पर अपनी सुरक्षा को नियंत्रित कर सकते हैं। उदाहरण के लिए क्रोम में नई सुरक्षा जांच यूजर्स को बताएगी कि क्या उन्होंने जो पासवर्ड क्रोम को याद रखने के लिए कहा था, उससे समझौता किया गया है और अगर ऐसा हुआ है, तो उन्हें कैसे ठीक किया जा सकता है।

यह आपको किसी खतरनाक साइट पर जाने या किसी हानिकारक एप्लिकेशन या एक्सटेंशन को डाउनलोड करने से भी बचाता है। अगर आपका क्रोम का कोई नया वर्जन आया है तो इसके बारे में भी आपको एक और नए अतिरिक्त तरीके से पता चल जाएगा, ताकि आप नए वर्जन को डाउनलोड कर सकें।

अगर गलत या अनचाहे एक्सटेंशन इंस्टॉल किए गए हैं, तो यह आपको बताएगा कि उन्हें कैसे और कहां से निकाला जा सकता है। इस साथ ही यह री-डिजाइन कुकीज को प्रबंधित करना भी आसान बनाता है। यूजर्स कुछ या सभी वेबसाइटों पर सभी कुकीज को ब्लॉक कर सकते हैं।

गूगल में वरिष्ठ उत्पाद प्रबंधक अब्देलकरीम मर्दिनी एक ब्लॉग पोस्ट में इसकी जानकारी साझा करते हुए लिखा, “क्रोम सेटिंग्स के शीर्ष पर आपको ‘यू एंड गूगल’ (पहले ‘पीपल’ दिखाई देता था) दिखाई देगा, जहां आप सिंक को नियंत्रित कर सकते हैं। इन नियंत्रणों से आपको यह पता चलता है कि आपके गूगल में संग्रहीत करने के लिए गूगल के साथ कौन सा डेटा साझा किया गया है और यह आपके सभी डिवाइस पर उपलब्ध कराया गया है।”

क्योंकि कई लोग नियमित रूप से अपनी ब्राउजिंग हिस्ट्री को डिलीट करते हैं, इसलिए गूगल ने गोपनीयता और सुरक्षा अनुभाग (प्राइवेसी एंड सिक्योरिटी सेक्शन) के शीर्ष पर क्लीयर ब्राउजिंग डेटा की सुविधा प्रदान की है। गूगल ने कहा कि नए अपडेट और फीचर्स, जिसमें पुन: डिजाइन की गई गोपनीयता और सुरक्षा सेटिंग्स शामिल हैं, आगामी सप्ताहों में डेस्कटॉप प्लेटफॉर्म पर क्रोम में आने वाली हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

महाराष्ट्र और गुजरात पर बढ़ा चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ का खतरा, NDRF की कई टीमें तैनात

नई दिल्ली: कोरोना संकट के बीच देश पर एक नया खतरा मंडरा रहा है। बंगाल और ओडिशा में चक्रवाती तूफान अम्फान की तबाही के...

क्या भारत के नाम से हट जाएगा ‘इंडिया’? सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज

प्रभाकर मिश्रा, नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट आज उस याचिका पर सुनवाई करेगा जिसमें मांग की गई है कि संविधान संसोधन करके इंडिया शब्द हटा...

Aaj ka Rashifal 2 June 2020:  इन राशि वालों को आज रहना होगा सावधान वरना बिगड़ सकते हैं काम, जानें अपना राशिफल

Aaj ka Rashifal 2 June 2020: आज दिनांक 2 जून 2020 और दिन मंगलवार (Mangalwar ka Rashifal) है। आज का दिन सभी 12 राशियों...

‘CHAMPIONS’ से मजबूत होंगे छोटे उद्योग, रोजगार की लग जायेगी झड़ी!

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की मीटिंग में 20 लाख करोड़ के पैकेज और लोकल के लिए वोकल अभियान...