National Doctors’ Day 2021: आज राष्‍ट्रीय डॉक्‍टर्स डे है, जानें क्‍यों मनाते हैं और क्या है इसका इतिहास?

National Doctors’ Day 2021: आज राष्‍ट्रीय डॉक्‍टर्स डे है, जानें क्‍यों मनाते हैं और क्या है इसका इतिहास?

Sports News24
Nirmal Kumar PareekNews241st July 2021, 6:26 am
Doctors day-2021

National Doctors’ Day 2021: प्रत्येक वर्ष 1 जुलाई को राष्ट्रीय डॉक्टर दिवस (National Doctors’ Day) मनाया जाता है। जिंदगी में डॉक्टर कितना महत्व रखते हैं इस बारे में सबको पता है। डॉक्टर इंसान के रूप में भगवान के समान होता है जो एक नई जिंदगी प्रदान करता है। इस दिन को मनाने का मकसद बेहतर स्वास्थ्य के प्रति लोगों को जागरूक करना और डॉक्टरों को उनकी समर्पित सेवा के लिए शुक्रिया अदा करना है।

इस वर्ष की थीम क्या है ?

इस साल 2021 में नेशनल डॉक्टर्स डे की थीम कोरोना वायरस से जोड़ कर ही रखी गई है, “बिल्डिंग ए फेयरर, हेल्दियर वर्ल्ड।”

राष्ट्रीय डॉक्टर दिवस क्यों मनाया जाता है ?

हर साल 1 जुलाई को राष्‍ट्रीय डॉक्टर दिवस के रूप में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन द्वारा मनाया जाता है। केंद्र सरकार ने साल 1991 में राष्ट्रीय डॉक्टर दिवस मनाने की शुरुआत की थी। राष्‍ट्रीय डॉक्‍टर दिवस बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ बिधान चंद्र रॉय की जयंती और पुण्यतिथि के अवसर पर मनाया जाता है। डॉक्टर बिधानचंद्र राय का जन्मदिन और पुण्यतिथि दोनों ही 1 जुलाई को होती है। उनका जन्म 1 जुलाई, 1882 को हुआ था और इसी तारीख को 1962 में उनकी मृत्यु हो गई थी। ये विशेष दिन सभी डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों को समर्पित है जो अपनी जान जोखिम में डालकर लोगों की सेवा कर रहे हैं।

इस दिन डॉक्टर्स के महत्व के बारे में लोगों को जागरूक किया जाता है। साथ ही हमारे जीवन में डॉक्टर्स का क्या योगदान है इस बात को सराहा जाता है।COVID-19 महामारी ने एक बार फिर लोगों को डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा दिए गए योगदान और बलिदान की याद करवाया है। भारत में जहां नेशनल डॉक्‍टर्स डे 1 जुलाई को मनाया जाता है वहीं डॉक्टर्स डे दुनिया भर में अलग-अलग तारीखों में मनाया जाता है।

विधानचंद्र रॉय डॉक्टर के साथ-साथ समाजसेवी, आंदोलनकारी और राजनेता भी थे। वो बंगाल के दूसरे मुख्यमंत्री बने थे। बिधानचंद्र रॉय ने डॉक्टर के रूप में करियर की शुरुआत सियालदाह से की साथ ही वे सरकारी अस्पताल में डॉक्टर की जिम्मेदारी भी निभाई। आजादी की लड़ाई के दौरान वो असहयोग आंदोलन का हिस्सा भी रहे। शुरुआत में उन्हें लोग महात्मा गांधी, नेहरू के डॉक्टर के रूप में जानते थे। महात्मा गांधी के कहने पर उन्होंने सक्रिय राजनीति में कदम रखा था।

बिधानचंद्र रॉय का समाज के प्रति योगदान कभी नहीं भुलाया जा सकता. वो जो भी कमाते थे, सब कुछ दान कर देते थे। आज भी वो डॉक्टरी पेशे में आने वाले लोगों के लिए एक आदर्श के तौर पर हैं। डॉक्‍टर बी सी रॉय को 4 फरवरी, 1961 को भारत रत्न के सम्मान से भी सम्‍मानित किया गया था।

National Doctors’ Day 2021 का महत्व –

राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस जीवन की सेवा में चिकित्सा डॉक्टरों की भूमिका और जिम्मेदारियों के प्रति ध्यान देने के लिए मनाया जाता है। यह दिन उनके कार्यों और दायित्वों को पहचानने के लिए माना जाता है। कोविड -19 के प्रकोप के बीच, जब मामले काफी बढ़ गए हैं, डॉक्टर सप्‍ताह के सात दिन 24 घंटे काम कर रहे हैं और अपनी जान जोखिम में डालकर मरीजों की जान बचाने का काम कर रहे हैं। अपनी जान की परवाह किए बिना डॉक्टरों ने जिस भावना और समर्पण से काम किया उसकाे नमन करने का समय है। संकट की घड़ी में वे हमारी जान बचाने के लिए अथक परिश्रम करते रहे।



देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक , टेलीग्राम , गूगल न्यूज़ .