WhatsApp KBC Fraud: 25 लाख रुपये के लॉटरी ऑफर के झांसे में न आएं, पुलिस ने कही ये बात

WhatsApp KBC Fraud: कौन बनेगा करोड़पति (KBC) भारतीयों के दिलों में रहा है। इस शो को बहुत प्रशंसा मिलती आई है और कई भारतीय परिवार इसे जरूर देखते हैं। शो में एक व्यक्ति जीत जाता है, लेकिन शो से अलग भी दर्शकों के लिए सवाल पेश किए जाते हैं, जिनके प्राइस भी दिए जाते हैं।

अभी पढ़ें Credit Score: क्या आपका CIBIL स्कोर खराब है? इन 4 तरीकों से कर सकते हैं बेहत

हालांकि, पूरे भारत और पाकिस्तान के स्कैमर्स और धोखेबाजों ने शो की विश्वसनीयता का दुरुपयोग करके कई लोगों को धोखा दिया है। उनके पास एक सेट पैटर्न है जिसके माध्यम से वे लोगों को धोखा देते हैं।

ये साइबर धोखेबाज अक्सर अपने लक्ष्य को लुभाने के लिए 25 लाख रुपये की लॉटरी का वादा करते हुए एक व्हाट्सएप संदेश भेजते हैं। वे केबीसी ऑनलाइन लॉटरी विभाग से होने का दावा करते हैं।

स्कैमर्स किसी दिए गए नंबर पर कॉल करने के लिए अपने लक्ष्य को लुभाते हैं और फिर उनकी कमाई से धोखाधड़ी करते हैं। हाल ही में, हैदराबाद का एक व्यक्ति इस तरह के प्रस्ताव का शिकार हुआ और उसे 3 लाख रुपये से अधिक का नुकसान हुआ।

एक अन्य उदाहरण में, दिल्ली पुलिस ने इस साल जून में नकली केबीसी लॉटरी योजना का उपयोग करके 100 से अधिक लोगों को धोखा देने के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया था।

यह धोखाधड़ी कैसे होती है?

केबीसी लॉटरी योजना के तहत किए गए इस साइबर धोखाधड़ी में, जालसाज अज्ञात नंबरों से पीड़ितों को व्हाट्सएप संदेश भेजते हैं (उनमें से ज्यादातर +92, पाकिस्तान के आईएसडी कोड से शुरू होते हैं) यह दावा करते हुए कि उनके दर्ज मोबाइल नंबर पर लॉटरी निकली है। यह कौन बनेगा करोड़पति से संबंधित बताई जाती है।

वे 25 लाख रुपये की लॉटरी का वादा करते हुए व्हाट्सएप संदेश में रिलायंस जियो और यहां तक ​​कि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के लोगो भी लगाते हैं। फिर वे अपने लक्ष्य को उस लॉटरी का दावा करने के लिए किसी ऐसे व्यक्ति से संपर्क करने के लिए कहते हैं जिसका नंबर उसी व्हाट्सएप संदेश में दिया गया है।

यदि पीड़ित दिए गए नंबर पर कॉल करते हैं, तो धोखेबाज उनसे लॉटरी का दावा करने के लिए पहले तमाम तरह की फीस के रूप में भुगतान करने के लिए कहते हैं। पीड़ित यदि पहला लेन-देन करते हैं तो वे किसी न किसी बहाने अधिक पैसे की मांग करते रहते हैं।

अभी पढ़ें ई-कॉमर्स साइट Meesho ने कर्मचारियों के मानसिक स्वास्थ्य को देखते हुए दिया 11 दिनों का ब्रेक

अगर जालसाजों को लगता है कि पीड़ितों को शक हो गया है तो वे कहते हैं कि लॉटरी की रकम बढ़ा दी गई है। यदि पीड़ित बदले में अपने पैसे की मांग करना शुरू कर देते हैं तो वे संचार बंद कर देते हैं।

अभी पढ़ें – बिजनेस से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

Click Here – News 24 APP अभी download करें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक, टेलीग्राम, गूगल न्यूज़.

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
Exit mobile version