Wednesday, July 8, 2020

‘CHAMPIONS’ से मजबूत होंगे छोटे उद्योग, रोजगार की लग जायेगी झड़ी!

CHAMPIONS छोटे उद्योगों की आवश्यकताओं की पूर्ति करेगा। आवश्यकता पर छोटे उद्योगों के लिए पैसा और प्रॉडक्ट की विक्री के लिए उचित मार्केट के सुझाव भी 'चैंपियंस' पर उपलब्ध होंगे। सरकार का मानना है कि इस पहल से छोटे उद्योगों को मजबूती मिलेगी और रोजगार के बम्पर अवसर पैदा होंगे।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की मीटिंग में 20 लाख करोड़ के पैकेज और लोकल के लिए वोकल अभियान पर मुहर लगा दी गयी। प्रधानमंत्री मोदी ने एमएसएमई के लिए एक खास डिजिटल प्लेटफॉर्म चैंपियन भी लांच किया। चैंपियन्स (CHAMPIONS-Creation and Harmonious Application of Modern Processes for Increasing the Output and National Strength) छोटे उद्योगों की आवश्यकताओं की पूर्ति करेगा। आवश्यकता पर छोटे उद्योगों के लिए पैसा और प्रॉडक्ट की विक्री के लिए उचित मार्केट के सुझाव भी ‘चैंपियंस’ पर उपलब्ध होंगे। सरकार का मानना है कि इस पहल से छोटे उद्योगों को मजबूती मिलेगी और रोजगार के बम्पर अवसर पैदा होंगे।

इस कैबिनेट मीटिंग में एमएसएमई, कुटीर व गृह उद्योगों के लिए 3 लाख करोड़ रुपये के कोलेट्रल फ्री ऑटोमेटिक लोन को मंजूरी दे दी गई है। चार साल के लिए मिलने वाले इस लोन के लिए पहले साल किसी तरह का मूलधन नहीं चुकाना होगा। इसका लाभ लेने के लिए 100 करोड़ तक के टर्नओवर और 25 करोड़ रुपये तक के बकाया वाली यूनिट योग्य मानी जाएंगी । इस योजना का लाभ उठाने की अंतिम तारीख 31 अक्टूबर 2020 है। इसके अलावा मोदी सरकार ने ऐसे एमएसएमई, कुटीर उद्योग जो इस वक्त संकट का सामना रहे हैं, उनके लिए 20,000 करोड़ रुपये के डिस्ट्रेस्ड असेट फंड को भी मंजूरी दी जा रही है। उम्मीद है कि इससे लगभग इस सेक्टर की 2 लाख यूनिट्स को फायदा होगा।

सूक्ष्म, लघु और मध्याम उद्योगों की मदद के लिए सरकारने इस सेक्टर की परिभाषा में परिवर्तन कर  दिया है। इसके तहत अब 1 करोड़ तक का निवेश करने वाली और 5 करोड़ तक का कारोबार करने वाली मैन्युफैक्चरिंग व सर्विसेज यूनिट अब माइक्रो यूनिट कहलाएगी। 10 करोड़ निवेश और 50 करोड़ तक का कारोबार करने वाली अब स्मॉल और 20 करोड़ तक निवेश व 100 करोड़ रुपये तक का कारोबार करने वाली यूनिट मीडियम यूनिट कहलाएगी।
इसके सरकार ने इस एमएसएमई को 50,000 करोड़ रुपये के इक्विटी इन्फ्यूजन की मंजूरी भी दे दी है। इससे अब ये कंपनियां पहली बार स्टॉक एक्सचेंज में लिस्ट हो सकेंगी । इसके लिए 10000 करोड़ रुपये का फंड ऑफ फंड्स सेटअप किया गया है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

कोरोना के बाद इंडिया से बाहर इंडिया का अद्भुत कारनामा, चीन और पाकिस्तान कर रहे स्यापा

नई दिल्ली। यूरोपियन यूनियन हो या फिर यूनाईटेड नेशंस हर तरफ भारत का बोलवाला है। अमेरिका, ब्रिटेन हो फिर रूस हर कोई भारत से...

नेपाल में उठा सियासी तूफान, चालबाज चीन ने राष्ट्रपति भवन को भी जाल में फंसाया

नई दिल्ली। चालबाज चीन ने नेपाल के राष्ट्रपति भवन को भी अपने जाल में फंसा लिया है। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग चाहते हैं...

सपना चौधरी ने इस गाने पर डांस से जीता फैंस का दिल, पागल हो गए लोग, देखें वीडियो

नई दिल्लीः हरियाणवी सिंगर (Haryanvi Dancer) और डांसर सपना चौधरी (Sapna Chaudhary) की पहचान किसी बॉलीवुड सिलेब्स से कम नहीं है। वो जब मंच...

लॉकडाउन में बुक कराए गये टिकटों का रिफंड नहीं दे रहीं एयरलाइंस, सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया नोटिस

नई दिल्ली। कोरोना लॉकडाउन के दौरान बुक किए गये हवाई टिकटों की वापसी में एयर लाइन हीलाहवाली कर रही हैं। यात्रियों पर जबरन क्रेडिट...