Wednesday, July 8, 2020

जानिए शराब का गणित जो सरकार के लिए है खास

लॉकडाउन 3 में सरकार ने कई तरह की छूट दी हैं। इसी छूट के तहत शराब की दुकानें खोलने की भी अनुमति दी गई है। लेकिन 40 दिन बाद आज जैसे ही देश के कई राज्यों में शराब की दुकानें खुलीं तो ठेकों के बाहर लोगों की लंबी-लंबी लाइनें लगनी शुरु हो गई।

नई दिल्‍ली: लॉकडाउन 3 में सरकार ने कई तरह की छूट दी हैं। इसी छूट के तहत शराब की दुकानें खोलने की भी अनुमति दी गई है। लेकिन 40 दिन बाद आज जैसे ही देश के कई राज्यों में शराब की दुकानें खुलीं तो ठेकों के बाहर लोगों की लंबी-लंबी लाइनें लगनी शुरु हो गई। देश की राजधानी दिल्ली हो या देश की आर्थिक राजधानी मुंबई, यूपी से लेकर कर्नाटक, आंध्र प्रदेश तक हर जगह आपको लगभग एक जैसी ही तस्वीर देखने को मिली। हर जगह शराब के लिए लोगों की लंबी-लंबी लाइन लगी हुई है। कहीं-कहीं तो दो से तीन किलोमीटर तक लंबी लाइन लग गई।

कई जगह शराब खरीददारों की बेकाबू भीड़ पर पुलिस को लाठियां तक भांजनी पड़ी। दरअसल, सरकार ने अपनी अर्थव्यवस्था का पहिया चलाने के लिए लॉकडाउन के बावजूद शराब की दुकानें खोलने की मंजूरी दी थी। लेकिन लोगों ने शराब खरीदने के लिए सोशल डिस्टैंसिंग के साथ-साथ कोरोना से बचने के दूसरे उपायों की भी धज्जियां उड़ा दीं।

सरकार के ख़ज़ाने के लिए क्यों ‘ख़ास’ है शराब

  • वित्त वर्ष 2020-21 में राजस्थान का कुल राजस्व लक्ष्य 70,351 करोड़ है
  • जिसमें शराब से मिला राजस्व 9,356 करोड़ रुपये यानी कुल राजस्व का 13.3%
  • ऐसे ही उत्तर प्रदेश का कुल राजस्व लक्ष्य 1,27,670 करोड़ रुपये है
  • यूपी के कुल राजस्व में शराब से 29,403 करोड़ मिलेंगे, जो कुल राजस्व का 23% है
  • ऐसे ही हरियाणा का कुल राजस्व लक्ष्य 47,842 करोड़ रुपये है
  • हरियाणा के कुल राजस्व में 6,700 करोड़ रुपये शराब से आना है, जो 13.% है
  • पंजाब सरकार का कुल राजस्व लक्ष्य 33,739 करोड़ रुपये है
  • पंजाब के राजस्व में 5,676 करोड़ रुपये शराब बिक्री से मिलने का अनुमान है, जो कुल कमाई का 16.8% है
  • दिल्ली सरकार ने 2020-21 में राजस्व लक्ष्य 39,500 करोड़ रुपये रखा है
  • दिल्ली के कुल राजस्व में 5,500 करोड़ रुपये शराब बिक्री से मिलने का अनुमान है, जो कुल राजस्व का 13.9% है
  • महाराष्ट्र सरकार ने कुल राजस्व लक्ष्य 1,99,534 करोड़ रुपये रखा है
  • महाराष्ट्र में शराब बिक्री से 16,667 करोड़ रुपये मिलने का अनुमान है, जो कुल राजस्व का 8.3% है
  • ऐसे ही तमिलनाडु सरकार ने अपना राजस्व लक्ष्य 1,10,178 करोड़ रुपये रखा है
  • तमिलनाडु में शराब बिक्री से 31,157 करोड़ रुपये कमाई का अनुमान है, कुल राजस्व का 28% है

दिल्ली से सटे गाजियाबाद में आज से शराब की दुकानें खुलेंगी। दरअसल लॉकडाउन-3 में शराब की दुकानें खोलने की छूट मिलने के बाद पहले दिन प्रशासन ने गाजियाबाद में शराब दुकान खोलने पर रोक लगा दी, क्योंकि प्रशासन ने दुकानों से स्टॉक की लिस्ट जमा करने को कहा था। लेकिन ऐसा नहीं होने पर शराब दुकान खोलने की छूट नहीं दी गई। गाजियाबाद में आज से शर्तों के साथ औद्योगिक इकाइयां खुलने के साथ ही निर्माण गतिविधि भी शुरू होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

बाजार में सैमसंग जल्द लाएगा ये 5 स्मार्टफोन, जरूर जानें इनकी डिटेल

नई दिल्लीः टेक कंपनी सेल बढ़ाने और आर्थिक स्थिति के पहिये को पटरी पर लाने के लिए काम करने में जुटी हैं। दुनिया की...

तमिलनाडु में पिता पुत्र की कस्टोडिएल डेथ को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर, हिरासत में पूछताछ को लेकर दिशानिर्देश बनाये जाने की मांग

प्रभाकर मिश्रा, नई दिल्ली: तमिलनाडु में पिता-पुत्र जयराज और बेनिक्स की हिरासत में हुई खौफनाक मौत को लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका...

यू ट्यूब पर लोगों के बीच धमाल मचा रहा सपना का ये गाना, अब तक मिले इतने मिलियन व्यूज, देखें वीडियो

नई दिल्लीः हरियाणवी डांसर (Haryanvi Dancer) और सिंगर सपना चौधरी (Sapna Chaudhary) की पहचान किसी बॉलीवुड सितारे से कम नहीं है। वो जब मंच...

देशभर में फैले फर्जी बाबाओं के आश्रम-अखाड़ोंके खिलाफ कार्रवाई की मांग, सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से मांगा जवाब

प्रभाकर मिश्रा, नई दिल्ली: देश की राजधानी दिल्ली सहित देशभर में फैले फर्जी बाबाओं के आश्रमों और अखाड़ों नियंत्रण की मांग वाली जनहित याचिका...