TrendingHimachal Pradesh Political CrisisRajya Sabha Election 2024IPL 2024lok sabha election 2024News24PrimeFarmers protestIND vs ENG

---विज्ञापन---

Budget 2023: मीडिया और मनोरंजन क्षेत्र की इस बार क्या हैं उम्मीदें? Wishlist देखें

Budget 2023: केंद्रीय बजट (2023-24) पेश करने का दिन लगभग आ ही गया है। प्रस्तुति 1 फरवरी को होने वाली है और भारतीय नागरिक पहले से ही इस साल बड़े बदलावों की उम्मीद कर रहे हैं। देश का मीडिया और मनोरंजन क्षेत्र भी उम्मीद कर रहा है कि आगामी बजट में मौजूदा नियमों में कुछ […]

Edited By : Nitin Arora | Updated: Jan 30, 2023 16:14
Share :

Budget 2023: केंद्रीय बजट (2023-24) पेश करने का दिन लगभग आ ही गया है। प्रस्तुति 1 फरवरी को होने वाली है और भारतीय नागरिक पहले से ही इस साल बड़े बदलावों की उम्मीद कर रहे हैं। देश का मीडिया और मनोरंजन क्षेत्र भी उम्मीद कर रहा है कि आगामी बजट में मौजूदा नियमों में कुछ संशोधनों पर विचार किया जाएगा। Statista के अनुसार, भारत के मीडिया और मनोरंजन उद्योग का मूल्य 2021 में 1.6 ट्रिलियन रुपये से अधिक था।

महामारी के प्रतिकूल प्रभाव से उबरते हुए, उद्योग 2020 और 2021 के बीच 16 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि हुई। टेलीविजन ने सबसे अधिक हिस्सेदारी बनाई, इसके बाद डिजिटल और प्रिंट मीडिया का स्थान रहा। इस वर्ष के बजट से मीडिया और मनोरंजन क्षेत्र की कुछ प्रमुख अपेक्षाएं:

और पढ़िए –Gold Price Today : अब कितना रुलाएगा सोना! दिल्ली-मुंबई-लखनऊ से इंदौर तक ये रहा रेट

ब्रॉडकास्ट उद्योग को समर्थन

ब्रॉडकास्ट उद्योग को उम्मीद है कि न्यू टैरिफ ऑर्डर और पायरेसी जैसी कुछ समस्याओं का समाधान करने के लिए नीति निर्माताओं और नियामकों का समर्थन प्राप्त होगा। सेक्टर लाइट-टच रेगुलेशन की उम्मीद कर रहा है जो ओवर-द-टॉप (ओटीटी) प्लेटफॉर्म जैसे नए और बढ़ते क्षेत्रों को प्रोत्साहित करने वाला है।

रेडियो क्षेत्र के लिए जीएसटी युक्तिकरण

उम्मीद है कि इस साल के बजट में रेडियो क्षेत्र के लिए वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) युक्तिकरण होगा। यह दर्शकों के आधार को बढ़ने की अनुमति दे सकता है, साथ ही दूरस्थ क्षेत्रों में प्रौद्योगिकी और डिजिटलीकरण के एकीकरण में सहायता कर सकता है।

VDA के लिए प्रगतिशील कर संरचना

वर्चुअल डिजिटल एसेट्स (VDA) पर कराधान ने व्यापार की मात्रा को घरेलू से विदेशी केंद्रीकृत वर्चुअल डिजिटल एसेट एक्सचेंजों में स्थानांतरित कर दिया है। उद्योग का सुझाव है कि एक प्रगतिशील कर संरचना जो उपभोक्ता भावनाओं को वापस लाने और राजस्व को बढ़ावा देने में सक्षम हो, पर विचार किया जाना चाहिए। वीडीए की करदेयता इसके स्थान पर निर्भर है। वीडीए के स्थान का निर्धारण करने के लिए स्पष्ट नियम किसी भी संभावित मुकदमेबाजी को कम करने में मदद करेंगे। इस क्षेत्र का मानना है कि गैर-नाटकीय अधिकारों पर लागू विदहोल्डिंग टैक्स दरों में छूट से उन्हें अपनी कार्यशील पूंजी को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने में मदद मिलेगी।

और पढ़िए –Indian Railways: खुशखबरी! इस ट्रेन में आप कर सकेंगे मुफ्त यात्रा, TTE भी नहीं चेक करेगा टिकट

ऑनलाइन गेमिंग उद्योग के लिए कराधान मॉडल में स्पष्टता

ऑनलाइन गेमिंग उद्योग को अपने कराधान मॉडल के संबंध में स्पष्टता की आवश्यकता है। उद्योग सरकार से यह भी उम्मीद करता है कि वह प्लेटफॉर्म फीस पर कर या सकल गेमिंग राजस्व (जीजीआर) जैसे अन्य पहलुओं को स्पष्ट रूप से बताए। गेमिंग उद्योग भी क्षेत्र में नियामक स्पष्टता चाहता है।

मीडिया उद्योग को अवसंरचना का दर्जा देना

मीडिया उद्योग चाहता है कि उसे इंफ्रास्ट्रक्चर का दर्जा दिया जाए। इससे उद्योग के लिए वित्तीय ऋण प्राप्त करना और सरकार से कर प्रोत्साहन प्राप्त करना आसान हो जाएगा।

और पढ़िए – बिजनेस से जुड़ी अन्य बड़ी ख़बरें यहाँ पढ़ें

First published on: Jan 30, 2023 12:49 PM

---विज्ञापन---

संबंधित खबरें
Exit mobile version