ऑरिजनल पार्ट्स और एसेसरी का ही करें इस्तेमाल : यूं तो नई गाड़ियों में शुरू के दो-तीन साल आपको कुछ भी देखने की ज़रूरत नहीं पड़ती। लेकिन किसी कारण से यदि गाड़ी में कुछ भी डलवाना पड़े तो याद रखें कि सभी पार्ट्स और एसेसरी ऑरिजनल ही हो। हालांकि इनकी कीमत आफ्टर मार्केट सामान से कुछ ज्यादा हो सकती है। लेकिन ऐसा ना करने पर हो सकता है कि आपका छोटा सा फायदा, आपको बड़े नुकसान की तरफ ले जाए।

कार की बॉडी का रखें ख्याल : कार की बॉडी का ध्यान रखने के लिए ज़रूरी है कि आप अपनी कार को हमेशा छाया में खड़े करने की कोशिश करें। हालांकि महानगरों में हमेशा ऐसा कर पाना मुश्किल होता। ऐसे में आप ये तो कर ही सकते हैं कि अपनी कार को रोज साफ करें और इसके लिए माइक्रो फाइबर क्लॉथ से साफ करें। बारिश के दिनों में अपनी कार का खास ख्याल रखें और ये देखते रहे हैं कि कार में कहीं जंग तो नहीं लगी। ऐसा होने पर आप अपनी कार तुरंत दिखवाएं।

क्लच पर न डालें ज्यादा दबाव : अगर आप पहाड़ी इलाकों में ट्रेवल करने के शौकीन हैं तो इस बात का खास ख्याल रखें कि पहाड़ों पर चढ़ते समय क्लच को दबाकर ना चलाएं। यदि आपको गाड़ी की स्पीड नियंत्रित रखनी है तो ऐसा सही गियर लगाकर करें। यदि आप क्लच को दबाकर गाड़ी की स्पीड को नियंत्रित करने की कोशिश करेंगे तो ऐसा करने पर आपकी कार की क्लच प्लेट घिस सकती हैं। और आपकी जेब पर बड़ा खर्चा आ सकता है।