सर्दियों में यदि करते हैं कार से सफ़र, तो जोख़िम से बचने के लिए खासतौर पर रखें इन तीन बातों का ख्याल

Cars in Winters

नई दिल्ली: सर्दियों ने दस्तक दे दी है। आने वाले दिनों में खासतौर पर उत्तर भारत के कई हिस्सों को ठंड पूरी तरह अपनी जकड़ में ले  लेगी। इस दौरान यदि आप भी अपनी कार का इस्तेमाल करते हैं तो उससे पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए। इसमें हम बता रहे हैं तीन ऐसी सावाधानियां जिन्हें बरत कर आप कर सर्दियों में कार चलाने के दौरान होने वाली कई मुश्किलों के साथ जोख़िमों से भी बच सकते हैं।

ठंड आ गई है और आने वाले कुछ दिनों में तेज ठंड के साथ- साथ कोहरा पड़ना शुरू हो जाएगा, जिससे इंजन पर मौसम का प्रभाव पड़ेगा। इसलिए आज आपको जो टिप्स बताने जा रहे हैं उसकी मदद से कड़ाके की ठंड पड़ने से पहले अपनी कार को बिल्कुल सुरक्षित कर सकते हैं, ताकि आपको ज्यादा नुकसान न झेलना पड़े।

Brakes

सर्दियों में खासतौर पर जिन दिनो में ओस पड़ती है, अक्सर ब्रेक्स जाम होने का ख़तरा रहता है। ऐसे में यदि ब्रेकिंग या सस्पेंशन (Brakes and Suspension) समय पर काम ना करे तो किसी बड़े हादसे का अंदेशा हमेशा बना रहता है। इसलिए बेहतर यही है कि सर्दियां शुरू होने से पहले ही अपनी कार के ब्रेकिंग और सस्पेंशन की जांच करवा लें। यदि आप हिल एरियाज़ में जाना चाहते हैं तब ब्रेक और सस्पेंशन की जांच और ज्यादा ज़रूरी हो जाती है।

Battery

सर्दियों मे गाड़ियों के जिन पार्ट्स में सबसे ज्यादा दिक्कत आती है, उनमें बैटरी प्रमुख है। खासतौर पर पुरानी कारों में बैटरियां ठंड के दिनों में बहुत परेशान करती है। आपने भी सर्दियों में कई लोगों को सुबह के समय अपनी कार को स्टार्ट करते समय जूझते हुए देखा होगा। बैटरी की खराबी की वजह से कई बार ऐसा भी होता है कि कारें बीच सड़क किसी कारण से बंद हो जाएं, तो फिर शुरू ही नहीं हो पाती हैं। इन सभी मुसीबतों से बचने के लिए यही बेहतर है कि आप सर्दियां शुरू होने से पहले ही अपनी कार की बैटरी कीं जांच करा लें।

टायर

सर्दियों में कार के जिस पार्ट का सबसे ज्यादा ध्यान रखना चाहिए वह होते हैं टायर। क्योंकि सर्दियों के दिनों में रातभर ओस पड़ने की वजह से सुबह के कुछ घंटे सड़कों पर नमी और गीलापन रहता है। ऐसे में यदि आपके टायर घिसे हुए हैं, या उनकी ग्रिप कम है तो आपका ब्रेकिंग सिस्टम कितना भी सॉलिड क्यों ना हो, लेकिन इमरजेंसी के समय कार के स्लिप करने या सही जगह ना रुकने के ख़तरे बने रहते हैं। यही कारण है कि जिन इलाकों में भारी बर्फबारी होती है, वहां ज़रूरत पड़ने पर कई बार कार के टायरों के चारों तरफ़ लोहे की चेन भी लपेट दी जाती हैं, ताकि वे बर्फ पर फिसलें ना।


संबंधित खबरें


देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक , टेलीग्राम , गूगल न्यूज़ .