अगले छह महीने में भारत में खड़ा किया जाएगा Ethenol पंप नेटवर्क: नितिन गडकरी

Petrol Pump

नई दिल्ली: कोरोना की वजह से आई मंदी और उसके बाद पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगी आग ने आम भारतीय की कमर तोड़कर रख दी है। ऐसे में भारत सरकार एक बिल्कुल नए ईंधन विकल्पों को तैयार करने की योजना पर काम कर रही है। इनमें से एक प्रमुख है- इथेनॉल (Ethanol)

केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी वाहनों में इथेनॉल के इस्तेमाल की लंबे समय से वकालत करते रहे हैं। इस सिलसिले में उन्होंने ऑटो उद्योग से फ्लेक्स-फ्यूल इंजन (Flex-fuel Engine) विकसित करने की अपील की है।

बता दें कि फ्लेक्स-फ्यूल इंजन पेट्रोल और एथेनॉल दोनों पर चल सकते हैं। इसके अलावा, इथेनॉल-मिश्रित पेट्रोल; शुद्ध पेट्रोल या डीजल की तुलना में कम प्रदूषण पैदा करता है। हाल ही में सियाम वार्षिक पारंपरिक गडकरी ने कहा है कि सरकार भारत में इथेनॉल पंपों का एक नेटवर्क स्थापित करने का लक्ष्य लेकर चल रही है।

बीते दिनों रोटरी जिला सम्मेलन 2020-21 को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए संबोधित करते हुए गडकरी ने कहा कि वैकल्पिक ईंधन इथेनॉल (Ethanol) की कीमत 60-62 रुपए प्रति लीटर है, जबकि देश के कई हिस्सों में पेट्रोल की कीमत 100 रुपए प्रति लीटर से ज्यादा है। इसलिए इथेनॉल का इस्तेमाल करने पर भारतीय प्रति-लीटर 30-35 रुपए की बचत कर पाएंगे।

जानकारी ये भी मिल रही है कि केंद्र सरकार अगले दो साल में पेट्रोल में 20 फीसदी इथेनॉल ब्लेंडिंग का लक्ष्य लेकर चल रही है। जिससे देश को महंगे तेल आयात पर निर्भरता कम करने में मदद मिलेगी। हालांकि पहले ये लक्ष्य 2025 तक के लिए निर्धारित किया गया था, लेकिन अब इसकी अवधि को घटाकर 2023 कर दिया गया है।

बता दें कि इथेनॉल एक तरह का अल्कोहल है जिसे पेट्रोल में मिलाकर गाड़ियों में फ्यूल की तरह इस्तेमाल किया जाता है। इथेनॉल का उत्पादन वैसे तो गन्ने से होता है। इसे पेट्रोल में मिलाकर 35 फीसदी तक कार्बन मोनोऑक्साइड कम किया जा सकता है।

गडकरी ने ऑटो उद्योग के हितधारकों को आश्वासन दिया है कि सरकार पूरे देश में इथेनॉल की उपलब्धता सुनिश्चित करेगी।

भारत का लक्ष्य 2022 तक E10 और 2025 तक E20 हासिल करना है। इसका मतलब है कि 2022 तक 10% इथेनॉल मिश्रित पेट्रोल पूरे भारत में उपलब्ध होगा। साथ ही, 2025 तक, 20% इथेनॉल मिश्रित पेट्रोल पूरे देश में उपलब्ध होगा। गडकरी ने कहा है कि E100 आगामी इथेनॉल ईंधन स्टेशनों पर उपलब्ध होगा। इन इथेनॉल ईंधन भरने वाले स्टेशनों का संचालन सार्वजनिक क्षेत्र की पेट्रोलियम कंपनियां करेंगी।

वर्तमान में, भारत में केवल तीन आउटलेट हैं, जहां E100 उपलब्ध है। इथेनॉल की मांग में कमी का कारण भारत में वर्तमान में फ्लेक्स-फ्यूल इंजन द्वारा संचालित कोई वाहन नहीं है। टू-व्हीलर सेगमेंट में, TVS Motor Company ने जुलाई 2019 में इथेनॉल से चलने वाली Apache RTR 200 का अनावरण किया। हालाँकि, मॉडल अभी तक बड़े पैमाने पर खरीद के लिए उपलब्ध नहीं है।

गडकरी की घोषणा वाहन निर्माताओं के इस दावे के बाद आई है कि इथेनॉल के लिए वितरण नेटवर्क की कमी है। उन्होंने दावा किया है कि यह कमी इथेनॉल से चलने वाले इंजनों के विकास में बाधा पैदा कर रही है।


संबंधित खबरें


देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक , टेलीग्राम , गूगल न्यूज़ .