नई पॉवरट्रेन तकनीक पर काम कर रही है ऑटो इंडस्ट्री: SIAM अध्यक्ष आयुकावा

Kenichi Ayukawa

नई दिल्ली: SIAM के अध्यक्ष केनिची आयुकावा ने बयान जारी कर कहा है कि भारतीय ऑटोमोबाइल उद्योग एक भारी मंदी के दौर से गुजर रहा है और COVID-19 महामारी ने इस क्षेत्र को कई साल पीछे धकेल दिया है।

उद्योग मंडल SIAM के 61वें वार्षिक सम्मेलन में बोलते हुए, आयुकावा ने कहा कि यात्री वाहनों और दोपहिया वाहनों जैसे सभी ऑटो सेगमेंट में पिछले 5-10 वर्षों में विकास दर में भारी गिरावट देखी गई है।

आयुकावा, जो देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी भारत के एमडी और सीईओ भी हैं ने इस मौके पर कहा, “COVID शुरू होने से पहले ही, भारतीय ऑटोमोबाइल उद्योग एक भारी मंदी का सामना कर रहा था।”

उन्होंने आगे कहा कि “उद्योग के सभी चार खंडों – यात्री वाहन, दोपहिया, कमर्शियल वाहन और तिपहिया वाहनों में, पिछले 5 से 10 वर्षों के लम्बे समय में विकास दर में भारी गिरावट देखने को मिली है।

उद्योग वर्तमान में कई चुनौतियों का सामना कर रहा है

आयुकावा ने कहा, “उद्योग को कुछ मध्यम अवधि की चुनौतियों का भी सामना करना पड़ रहा है, जैसे कि निरंतर मांग, ग्राहकों के लिए सामर्थ्य, स्थानीयकरण, दीर्घकालिक नियमों की तैयारी और नई पावरट्रेन प्रौद्योगिकियों को सुनिश्चित करना।”

उन्होंने कहा कि इन चुनौतियों से पार पाने और उद्योग को विकास के रास्ते पर वापस लाने के लिए मेहनत और केंद्रित कार्रवाई की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा, “SIAM और ACMA ने मिलकर अगले 2 से 5 वर्षों में लगभग 15-20 प्रतिशत की ग्रोथ के लक्ष्य के साथ एक जमीनी तौर पर रोडमैप तैयार किया है।”

आयुकावा ने कहा, “हम सुधार और जल्द सही तरह से काम करने के लिए सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के साथ काम करेंगे। मैं ऑटो उद्योग और उन्नत रसायन कोशिकाओं के लिए उत्पादन से जुड़ी प्रोत्साहन योजना की घोषणा के लिए सरकार का आभार व्यक्त करना चाहता हूं।”


संबंधित खबरें


देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक , टेलीग्राम , गूगल न्यूज़ .