TrendingGautam Gambhirlok sabha election 2024IPL 2024News24PrimeMahashivratri 2024WPL 2024

---विज्ञापन---

Amavasya 2023: किस तिथि को है साल 2023 की आखिरी अमावस्या? जानें शुभ मुहूर्त व महत्व

Amavasya 2023: वैदिक पंचांग के अनुसार, साल 2023 की आखिरी अमावस्या तिथि 12 दिसंबर को है। तो आइए अमावस्या तिथि के शुभ मुहूर्त व महत्व के बारे में जानते हैं।

Edited By : Raghvendra Tiwari | Updated: Dec 6, 2023 12:10
Share :
Kartik Amavasya 2023

Amavasya 2023: सनातन धर्म में अमावस्या का बहुत ज्यादा महत्व है। हिंदू पंचांग के अनुसार, एक साल में कुल 12 अमावस्या की तिथियां पड़ती हैं। लोगों के मन में अब सवाल ये उठ रहा है कि साल की आखिरी अमावस्या कब होगी। हिंदू पंचांग के अनुसार, मार्गशीर्ष मास में कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि 12 दिसंबर को है। ऐसे में इस दिन स्नान, दान और पूजा पाठ का विशेष महत्व है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, अमावस्या के दिन हनुमान जी और मंगल ग्रह की पूजा करनी चाहिए। मान्यता है कि जो जातक विधि-विधान से इन दोनों की पूजा करते हैं, उनकी जीवन की सारी कठिनाइयां दूर हो जाती हैं। साथ ही अमावस्या के दिन किए गए उपायों से पितरों की आत्मा को शांति मिलती है।

साल की अमावस्या तिथि कब

हिंदू पंचांग के अनुसार, मार्गशीर्ष माह के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि 12 दिसंबर 2023 को हैं। 12 दिसंबर को अमावस्या की शुरुआत सुबह 6 बजकर 24 मिनट से हो रही है साथ ही अगले दिन यानी 13 दिसंबर को सुबह 5 बजकर 1 मिनट पर समाप्त होगी।

यह भी पढ़ें- लक्ष्य प्राप्ति के लिए करें बुधवार के दिन बुध स्तोत्र का पाठ, जीवन हो जाएगा धनवान

शुभ मुहूर्त

वैदिक पंचांग के अनुसार, मार्गशीर्ष अमावस्या के दिन धृति योग बनेगा। ज्योतिषियों के अनुसार, धृति योग शाम 6 बजकर 52 मिनट तक रहेगा। शास्त्र के अनुसार, इस दिन ब्रह्म मुहूर्त में स्नान करने का शुभ मुहूर्त सुबह के 5 बजकर 15 मिनट से लेकर सुबह के 6 बजकर 9 मिनट तक रहेगा। उसके बाद अभिजीत मुहूर्त सुबह के 11 बजकर 54 मिनट से लेकर 12 बजकर 35 मिनट तक रहेगा।

यह भी पढ़ें- साल 2024 में शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या से 3 राशियों पर टूटेगा दुखों का पहाड़, होगा जमकर नुकसान

कार्तिक अमावस्या का महत्व

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, मार्गशीर्ष अमावस्या का बहुत ही ज्यादा महत्व है। शास्त्र के अनुसार, मार्गशीर्ष अमावस्या का दिन देवराज इंद्र, सूर्य देव, हनुमान जी और पितरों को समर्पित है। मान्यता है कि जो जातक इस दिन बजरंग बली की पूजा करते हैं, उन्हें कर्ज से मुक्ति मिलती है साथ ही इस दिन दान करने से मंगल दोष के प्रभाव से भी मुक्ति मिल जाती है।

यह भी पढ़ें-  जानें ‘A’ और ‘K’ अक्षर नाम वाले लोग का कैसा होता है भाग्य, कम उम्र में बन जाते हैं अमीर

डिस्क्लेमर: यहां दी गई जानकारी ज्योतिष पर आधारित है तथा केवल सूचना के लिए दी जा रही है। News24 इसकी पुष्टि नहीं करता है। किसी भी उपाय को करने से पहले संबंधित विषय के एक्सपर्ट से सलाह अवश्य लें।

First published on: Dec 06, 2023 10:43 AM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

---विज्ञापन---

संबंधित खबरें
Exit mobile version