पीलीभीत में पकड़े गए ड्रैकुला, चूसते थे बच्चों का खून

देश | July 16, 2017, 1:48 p.m.

नीरज आनन्द, पीलीभीत (16 जुलाई): यूपी के पीलीभीत में पुलिस ने एक ऐसे शातिर गिरोह का भंडाफोड़ किया है जो महज़ चंद रुपयों के लिए नाबालिगों की ज़िदगी से खिलवाड़ करता था। आरोपी गरीब घर के बच्चों को पैसों का लालच देकर उनका खून ले लेते थे और फिर वो खून बेच देते थे।


पुलिस ने इस शातिर गैंग के 6 सदस्यों को गिरफ्तार किया है। ये गैंग पिछले कई सालों से उत्तर प्रदेश के पीलीभीत और आस-पास के जिलों में ऑपरेट कर रहा है और चंद रुपयों के लालच में ना जाने हजारों मासूमों की ज़िदगी से खिलवाड़ कर चुका है। दरअसल ये आरोपी गरीब घर के नाबालिग बच्चों को पैसा का लालच देकर उनका खून निकाल लेते थे और फिर उस खून को अस्पतालों में ज़रूरतमंद मरीज़ों के परिजनों को बेच देते थे।


दरअसल आरोपी इस गोरखधंधे को इतने शातिर तरीके से इसलिए चला पा रहे थे, क्योंकि ये सभी अस्पतालों में ही काम करते हैं। 6 में से 5 आरोपी तो पीलीभीत के एसएस हॉस्पिटल में कर्मचारी है तो वहीं एक आरोपी राजेश वैभव हॉस्पिटल में काम करता है। मुख्य आरोपी जाकिर अपने घर पर ही बच्चों का खून निकालता था और फिर राजेश उस खून की पैथोलॉजी में जांच करवाता था, जिसके बाद मरीजों को खून बेच दिया जाता था।


आरोपी जिन बच्चों से खून लेते थे उन्हें 1 यूनिट खून के बदले 500 से 700 रुपए दिए जाते थे और इस 1 यूनिट खून को आरोपी मजबूर मरीज़ों के परिजनों को 1000 रुपए में बेचते थे। अभी ये साफ नहीं हो पाया है कि आरोपियों का किस-किस अस्पताल से कनेक्शन था। बताया जा रहा है कि इस गोरखधंधे में कई अस्पताल, पैथोलॉजी लैब और डॉक्टर्स भी शामिल हो सकते हैं।


वीडियो:




Related news

Don’t miss out

News