विज्ञान भी कहता है ग्रहण के दौरान वातावरण में तैरती है खतरनाक अल्ट्रावॉयलट किरणें

दुनिया | Aug. 20, 2017, 5:06 a.m.


 नई दिल्ली (20 अगस्त):
सूर्यग्रहण के दौरान पृथ्वी के उत्तरी एवं दक्षिणी ध्रुव प्रभावित होते हैं। इसलिए यह अवधि ऋणात्मक मानी जाती है। सूर्य से अल्ट्रावॉयलेट किरणें निकलती हैं जो एंजाइम सिस्टम को प्रभावित करती हैं, और शरीर पर विपरीत असर पड़ता है। इसलिए सूर्यग्रहण के दौरान सावधानी बरतने की जरूरत है।

नंगी आंखों से नहीं देखना चाहिए सूर्यग्रहण

सूर्यग्रहण को कभी भी नंगी आंखों से नहीं देखना चाहिए। इसको देखने के लिए वैज्ञानिक प्रमाणित टेलिस्कोप का ही इस्‍तेमाल करना चाहिए। सूर्य ग्रहण को देखने के लिए वैसे चश्मे का भी इस्केमाल किया जा सकता है, जिनमें अल्‍ट्रावॉयलेट किरणों को रोकने की क्षमता हो।

Related news

Don’t miss out

News