दुबई: 500 साल जेल में रहेंगे दो भारतीय

देश | April 11, 2018, 3:45 p.m.


नई दिल्ली (11 अप्रैल):
भले ही भारत में धोखाधड़ी करने वाले आसानी से छूट जाते हों या किसी दूसरे देश में जाकर शरण ले लेते हों, लेकिन दुबई में ऐसा नहीं है। यहां पर धोखाधड़ी करने वालों को ऐसी सजा दी जाती है, जिसके बाद कोई दूसरा शख्स ऐसा करने की सोच भी नहीं सकता। ऐसे ही एक मामले के तहत वहां की कोर्ट ने 2 भारतीयों को 200 मिलियन डॉलर (1305 करोड़) के घोटाले में 500 साल से ज्यादा की सजा सुनाई गई है।

सजा पाने वाले में गोवा के रहने वाले सिडनी लिमोस और उनके सीनियर अकाउंट स्पेशलिस्ट रियान डिसूजा है। लिमोस और रियान ने मिलकर पोंजी स्कीम के तहत हजारों निवेशकों के साथ धोखाधड़ी की। उन्होंने 25000 डॉलर का निवेश करने पर उन्हें 120 पर्सेंट सालाना रिटर्न देने का वादा किया था। शुरुआत में कंपनी ने निवेशकों को खूब फायदा पहुंचाया, लेकिन 2016 में पोंजी स्कीम के पतन होने के बाद इस कंपनी ने निवेशकों को पैसा देना बंद कर दिया।

मार्च 2016 में पोंजी स्कीम के धाराशायी होने के बाद दुबई इकनॉमिक डिपार्टमेंट ने उसी साल जुलाई में कंपनी के ऑफिस भी बंद कर दिए। इस मामले में लिमोस की पत्नी के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया है। लिमोस की पत्नी पर सील ऑफिस में गैरकानूनी तरीके से घुसकर डॉक्यूमेंट ले जाने का आरोप है।

लिमोस को दिसंबर 2016 में गिरफ्तार किया गया था, लेकिन तब वह जमानत पर रिहा हो गया था। वहीं पिछले साल जनवरी में उसे फिर से गिरफ्तार कर लिया गया। लिमोस के सीनियर अकाउंट मैनेजर रियान डिसूजा को पिछले साल फरवरी में दुबई एयरपोर्ट पर गिरफ्तार किया गया, जब वह भारत आ रहा था। लिमोस की पत्नी बच निकलने में कामयाब रही।

Related news

Don’t miss out

News