'भारत-बांग्लादेश हिंसक कट्टरवाद और आंतकवाद के खिलाफ मिलकर लड़ेगा'

देश | Oct. 22, 2017, 6:30 p.m.

ढाका (22 अक्टूबर): विदेश मंत्री सुषमा स्वाराज दो दिन के बांग्लादेश के दौरे पर आज ढाका पहुंचीं। ढाका के बंगबंधु हवाई अड्डे पर पहुंचने पर सुषमा स्वराज की बांग्लादेश के विदेश मंत्री एएच मुहम्मद अली ने जोरदार स्वागत किया।

ढाका पहुंचने पर प्रेस ब्रीफिंग करते हुए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि भारत और बांग्लादेश जीरो टॉलरेंस नीति अपनाकर और हर स्तर पर हिंसक कट्टरवाद और आंतकवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ेगा।

सुषमा स्वाराज की बड़ी बातें...

- जीरो टॉलरेंस नीति अपनाकर और हर स्तर पर हिंसक कट्टरवाद और आंतकवाद के खिलाफ लड़ाई में व्यापक दृष्टिकोण अपनाकर हम इन चुनौतियों का सामना करेंगे

- दोनों देश साथ मिलकर इन चुनौतियों से लड़ना जारी रखेंगे। हम अपने समाज को नफरत, हिंसा और आतंक की विचारधाराओं से सुरक्षित रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं 

- दोनों देशों ने साझा चुनौतियों पर चर्चा की। हमारे सामने आतंकवाद, अतिवाद और कट्टरवाद की ऐसी ही चुनौतियां हैं

- बांग्लादेश से हर साल लाखों नागरिक भारत आते हैं, दोनों देशों के बीच कनेक्टिविटी के और जरिये खोलना हमारा उद्देश्य है

- अब तक हमने बांग्लादेश में कई प्रॉजेक्ट पूरे किए हैं, जिनके तहत स्टूडेंट हॉस्टल, ट्यूबवेल, अनाथाश्रमों का निर्माण किया गया है

बतौर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की यह दूसरी बांग्लादेश यात्रा है। उनसे पहले हाल ही में वित्त मंत्री अरुण जेटली बांग्लादेश के दौरे पर आए थे। उस दौरान भारत ने बिजली, रेलवे, सड़क और नौवहन समेत अहम क्षेत्र की विकास परियोजनाओं के क्रियान्वयन के लिए 4.5 अरब डालर की ऋण सहायता जारी की थी। अप्रैल में शेख हसीना की भारत यात्रा के दोरान इस ऋण सहायता की घोषणा की गयी थी। इस कदम को बांग्लादेश में चीन के बढ़ते प्रभाव का मुकाबला करने के भारत के प्रयास के तौर पर देखा जा रहा है। चीन बांग्लादेश में बुनियादी ढांचा उपक्रमों में कदम बढ़ाने की कोशिशों में जुटा है।

Related news

Don’t miss out

News