आसमान में न्यूट्रॉनी तारों की आतिशबाजी, एवरेस्ट से भारी है एक उनकी चम्मच बारूद!

दुनिया | Oct. 17, 2017, 1:14 a.m.


नई दिल्ली (17 अक्टूबर): एक दीवाली पृथ्वी धरती पर मनायी जा रही है तो दूसरी लाखों किलोमीटर दूर अनन्त आकाश में भी...! यहां आतिशबाजी हो रही है रोशनी बिखर रही है तो वहां भी सितारों की आपस में आतिशबाजी चल रही है। धरती से लगभग 130 मिलियन लाइट वर्ष दूर न्यूट्रॉन स्टार आपस में टकरा रहे हैं और नई तरंगे धरती की तरफ फेंक रहे हैं। ये गुरुत्वाकर्षण तरंगे हैं। खगोलीय वैज्ञानिकों को पहली बार ऐसे सबूत मिले हैं जिनके आधार पर यह कहा जा सकता है कि ऊपर चक्कर काट रहे सैटलाइट्स के पास दिख रही गामा किरणों से निकलने वाली रोशनी न्यूट्रॉन स्टार्स की आपसी टक्कर की वजह से उत्पन्न हो रही हैं। विज्ञानियों का कहना है कि हमारे ब्रह्माण्ड का विस्तार हो रहा है। नई खोज से यह भी पता चलेगा की इस विस्तार की गति क्या है। न्यूट्रॉन स्टार्स की आपसी टक्कर से एक और जानकारी मिली है, वो यह कि एक-एक न्यूट्रॉन स्टार का सूर्य के वजन से कई गुना है। हालांकि इनका आकार बहुत छोटा है। इनके वजन का अनुमान ऐसे लगाया जा सकता है कि इन न्यूट्रॉन स्टार्स के एक चम्मच भर मैटेरियल का वजन हमारे माउंट एवरेस्ट से भी ज्यादा है। 

लेजर इंटरफियरोमीटर ग्रैविटेशनल-वेव ऑब्जर्वेटरी(एलआईजीओ-लीगो) से जुड़े वैज्ञानिकों ने इस घटना को ग्रैविटेशनल-वेव मल्टीमेसेंजर ऐस्ट्रॉनमी की शुरुआत बताया है। उन्होंने बताया कि इसकी शुरुआत 17 अगस्त 2017 को हुई थी। तब यूएस आधारित एलआईजीओ और यूरोप आधारित वरगो ने पहली बार एक दूसरे से टकराते न्यूट्रॉन स्टार्स से ग्रैविटेशनल वेव्स (गुरुत्वाकर्षण तरंगें) पैदा होती देखी थीं। 


 

Related news

Don’t miss out

News