7 साल से अमेरिका में रह रहा था मैनहटन का ये हमलावर

दुनिया | Nov. 1, 2017, 12:26 p.m.

नई दिल्ली (1 नवंबर): न्यूयॉर्क के मैनहटन इलाके में सड़क पर अचानक एक ट्रक मौत बनकर दौड़ने लगा। इस आतंकी हमले में 8 लोगों की मौत हो गई जबकि दर्जन भर लोग घायल हो गए। आतंकी हमले में मारे गए लोग ज्यादातर विदेशी पर्यटक थे। हमले के बाद एक शख्स हथिय़ार लहराते और धार्मिक नारे लगाते हुए भागता दिखा। पुलिस ने हमलावर सैफुला सोयपोव नाम के आतंकी को गिरफ्तार किया है। आतंकी सैफुला उज्बेकिस्तान का रहने वाला है।

29 साल का सैफुला 2010 से फ्लोरिडा के टेम्पा इलाके में रह रहा था। आतंकी के ट्रक से IS का झंडा और साहित्य मिला है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने हमले की निंदा करते हुए ट्वीट किया, 'न्यूयॉर्क में एक बीमार किस्म के आदमी ने हमला किया, सुरक्षा एजेंसिया इसपर अपनी नजरें बनाए हुए हैं।' ट्रंप ने ट्वीट किया, 'मीडिल ईस्ट में हराने के बाद अब ISIS को वापस नहीं आने देंगे और न ही अमेरिका में घुसने देंगे।'

अमेरिका में ये आतंकी हमला वर्ल्ड ट्रेड सेंटर मेमोरियल के पास हुआ जो अमेरिका के सबसे महफूज जगहों में से है। इस इलाके में पिछले 16 सालों में दूसरी बड़ी आतंकी घटना हुई। इससे पहले 11 सितंबर, 2001 को अमेरिकी इतिहास में सबसे बड़ी और भयावह आतंकी घटना हुई थी। जब अलकाय़दा के आतंकी हमले में 3000 लोग मारे गए थे।

हालांकि उसके बाद अमेरिका ने सख्त जीरो टेरर की आतंकी रणनीति बनाते हुए देश में होने वाली आतंकी हमलों की आशंका को काफी कम कर दिया, लेकिन मैनहटन में हुए इस हमले ने एक बार फिर अमेरिका में आतंकी खतरे की आहट दे दी है। आतंक लगातार अपने तरीके बदल-बदल कर दुनिया को दहला रहा है। वन मैन आर्मी के फलसफे पर बना लोन वुलिफ अटैक का तरीका अमेरिका की सुरक्षा एजेंसियों को भी गच्चा देने में कामयाब हो गया है। क बार फिर दुनिया के सामने ये सवाल खड़ा हो गया है कि आतंक का फन कुचलने के लिए फुलप्रुफ प्लान कैसे तैयार किया जाए।

Related news

Don’t miss out

News