भारत की बड़ी उपलब्धि, सऊदी अरब में योग को मिला खेल का दर्जा

दुनिया | Nov. 14, 2017, 4:36 p.m.

नई दिल्ली ( 14 नवंबर ): योग दुनिया भर में अपना लोहा मनवा चुका है। भारत में जहां योग और धर्म को लेकर विवाद छिड़ा है, तो वहीं दूसरी ओर सऊदी अरब में योग को एक खेल के तौर पर आधिकारिक मान्यता मिल गई है। बता दें कि सऊदी अरब को इस्लाम धर्म को लेकर कट्टरपंथी रुख के लिए जाना जाता है, लेकिन ऊदी अरब इन दिनों बड़े बदलाव से गुजर रहा है। इससे पहले 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर सऊदी अरब के विभिन्न भारतीय स्कूलों में योग सत्र का आयोजन किया गया था।

सऊदी अरब की ट्रेड ऐंड इंडस्ट्री मिनिस्ट्री ने स्पोर्ट्स ऐक्टिविटीज के तौर योग सिखाने को आधिकारिक मान्यता दे दी है। सऊदी अरब में अब लाइसेंस लेकर योग सिखाया जा सकेगा। 

खास बात यह है कि नोफ मारवाई नामक एक महिला को सऊदी अरब की पहली योग प्रशिक्षक का दर्जा भी मिल गया है। योग को खेल के तौर पर सऊदी में मान्यता दिलाने का श्रेय भी नोफ को ही जाता है। नोफ ने इसके लिए लंबे समय तक अभियान चलाया था। 

अरब योगा फाउंडेशन की फाउंडर नोफ का मानना है कि योग और धर्म के बीच किसी तरह का कॉन्फ़्लिक्ट नहीं है। आपको बता दें कि 27 सितंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में योग को वैश्विक तौर पर स्वीकृति मिली थी और 21 जून को हर साल विश्व भर में योग दिवस मनाया जाता है।

Related news

Don’t miss out

News