PNB में हुआ देश का सबसे बड़ा बैंकिंग घोटाला, जानिए पूरा मामला

देश | Feb. 14, 2018, 11:56 p.m.

नई दिल्ली ( 14 फरवरी ): पंजाब नैशनल बैंक के मुबंई के एक ब्रांच में करीब 1.77 अरब डॉलर (11,500 करोड़ रुपये) का फर्जीवाड़ा पकड़ा गया है। जानकारों का कहना है कि इसका असर दूसरे बैंकों पर भी पड़ सकता है। इस फर्जीवाड़े का खुलासा होने के बाद पीएनबी का शेयर करीब 10 फीसदी तक गिर गए। पंजाब नैशनल बैंक भारत में सार्वजनिक क्षेत्र का दूसरे सबसे बड़ा बैंक है।

मामले में कदम उठाते हुए पीएनबी ने 10 कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है। इस बीच, बैंक ने अरबपति नीरव मोदी और आभूषण कंपनी के खिलाफ धोखाधड़ी को लेकर सीबीआई के पास शिकायत की है।   

धोखाधड़ी को लेकर चिंतित वित्त मंत्रालय ने सभी बैंकों को इस मामले से जुड़ी या इस प्रकार की घटनाओं के संबंध में इस सप्ताह के अंत तक रिपोर्ट देने को कहा है। वित्त मंत्रालय ने यह भी कहा कि मामला 'नियंत्रण के बाहर' नहीं है और इस बारे में उचित कार्रवाई की जा रही है। वित्तीय सेवा विभाग में संयुक्त सचिव लोक रंजन ने कहा 'मुझे नहीं लगता कि यह नियंत्रण से बाहर या इस समय कोई बड़ी चिंता की बात है।'

बैंक ने बाम्बे स्टॉक ऐक्सचेंज को इसकी जानकारी देते हुए बताया, 'इसके जरिए कुछ चुने हुए अकाउंट होल्डर को फायदा पहुंचा रहा था।' बैंक ने कहा कि वह अब इस बात का आंकलन करेगा कि क्या इन ट्रांजैक्शन से उसकी कोई देनदारी तो नहीं बनती है। इस मामले के बाद भारत के अन्य बैंकों की हालत पर भी सवाल उठने लगे हैं, जो पहले से ही फाइनेंशल क्राइसिस से जूझ रहे हैं। 

पीएनबी ने बताया कि जांच एजेंसियों को इस फर्जीवाड़े के बारे में जानकारी दे दी गई है। बैंक का कहना है कि उसके वित्तीय लेनदेन पर इस फर्जीवाड़े का क्या असर पड़ेगा, इस बारे में अभी तक कोई आंकलन नहीं किया गया है। इसके अलावा इससे प्रभावित होने वाले लोगों के नाम भी बैंक ने नहीं बताए हैं। 

बता दें कि इससे पहले पीएनबी की शिकायत पर अरबपति जूलर नीरव मोदी के खिलाफ जांच शुरू की गई थी। दरअसल, पीएनबी ने ज्वेलर और कुछ अन्य लोगों पर 4.4 करोड़ डॉलर के फर्जीवाड़े की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। हालांकि अभी यह साफ नहीं हो पाया है कि इस फर्जीवाड़े का उस केस से कोई संबंध है या नहीं। 

 

Related news

Don’t miss out

News