Download app
We are social

VIDEO: फिर विवादों में पंकजा मुडे़, 'आप' ने लगाया ये बड़ा आरोप

विनोद जगदाले, मुंबई (31 मई): महाराष्ट्र की महिला और बाल कल्याण मंत्री पंकजा मुंडे एक बार फिर से विवादों में हैं। आम आदमी पार्टी की नेता प्रीति शर्मा-मेनन का दावा किया है कि पंकजा ने नियम के खिलाफ पोषण आहार बनाने के ठेके फर्जी स्वयं सहायता समूहों को दिए। आरोपों के घेरे में महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष रावसाहेब दानवे भी हैं।


पंकजा मुंडे महाराष्ट्र की महिला और बाल कल्याण मंत्री हैं। आरोप है कि पंकजा ने आगनबाड़ी में नियमों के खिलाफ जाकर ठेके बांटे। आम आदमी पार्टी के मुताबिक, एकात्मिक बाल विकास योजना के तहत पंकजा ने सामान बांटने के ठेके उन सहायता समूहों को दिए जो असल में फर्जी हैं। आप नेता प्रीति शर्मा मेनन ने आरोप लगाया है कि मंत्री पंकजा ने 777 करोड़ रुपये में से करीब 684 करोड़ रुपए का काम उन संस्था को दिए, जिनपर धोखाधड़ी का आरोप है।


प्रीति शर्मा मेनन के मुताबिक पंकजा ने तीन ऐसे समूहों को ठेके बांटे, जिन्हें सुप्रीम कोर्ट ने ब्लैक लिस्ट कर रखा है। इनमें वेंकटेश्वर महिला औद्योगिक उत्पादन सहकारी संस्था, महालक्षमी महिला गृहउद्योग सहकारी संस्था, आणि महाराष्ट्र महिला सहकारी गृहउद्योग संस्था शामिल हैं। यही नहीं ठेके पाने वाले 15 स्वयं सहायता समूहों में से 12 अपात्र हैं।


आरोपों के लपेटे में महाराष्ट्र बीजेपी अध्यक्ष रावसाहेब दानवे भी हैं। मेनन के मुताबिक, जिन ठेकेदारों को ठेके मिले वो पंकजा मुंडे और दानवे के करीबी हैं। आरोप है कि दानवे के दो सहयोगी मोरेश्वर नाम की कंपनी में शामिल हैं। ये वो कंपनी है, जिसे आंगनबाड़ी में सामान सप्लाई करने का ठेका मिला है। इल्जाम है कि मोरेश्वर कंपनी ने आरडी दानवे को 5 लाख रुपये भी दिए। कहा जा रहा है कि ये आरडी दानवे रावसाहेब दानवे ही हैं।


कोर्ट की गाइडलाइन्स कहती है कि ठेके केवल उन्हीं स्वयं सहायता समूहों को ही दिए जाने चाहिए, जिन्हें महिलाएं चला रही हों। लेकिन आरोप है कि पंकजा ने कोर्ट के आदेश के खिलाफ जाकर काम किया। उधर पंकजा मुंडे ने आरोपों को बेबुनियाद बताया है। पंकजा और दानवे पर आरोप गंभीर हैं। इसलिए जांच जरूरी है। ताकि सच सामने आ सके।



Related news

Don’t miss out