साड़ी को हिंदू राष्ट्रवाद से जोड़कर घिरा अमेरिकी अखबार

दुनिया | Nov. 15, 2017, 12:15 p.m.

नई दिल्ली(15 नवंबर): मेरिकी अखबार न्यू यॉर्क टाइम्स को एक लेख में भारतीय परिधान साड़ी को हिंदू राष्ट्रवाद से जोड़ना महंगा पड़ गया सोशल मीडिया पर सभी राजनीतिक विचारधाराओं के लोग न्यू यॉर्क टाइम्स के इस लेख को लेकर उस पर निशाना साध रहे हैं। 

- इस लेख में महिलाओं के लिए शिष्ट परिधान माने जाने वाले साड़ी को हिंदू रंग देने को लेकर लोग अखबार के साथ ही आर्टिकल लिखने वाले पर भी हमला कर रहे हैं।

- साड़ी को भारत में बड़े पैमाने पर महिलाएं पहनती हैं, इसके अलावा बांग्लादेश और पाकिस्तान में भी साड़ी का प्रचलन है। न्यू यॉर्क टाइम्स में असगर कादरी ने अपने लेख में दावा किया है कि 2014 में नरेंद्र मोदी के पीएम बनने के बाद से साड़ी को हिंदू राष्ट्रवाद के प्रतीक चिह्न के तौर पर प्रोत्साहित किया जा रहा है। यही नहीं कादरी ने यह भी दावा किया कि भारतीय फैशन इंडस्ट्री पर भी पश्चिमी परिधानों को तवज्जो न देने का दबाव है।

- देश की कई जानी-मानी हस्तियों ने न्यू यॉर्क टाइम्स पर निशाना साधा है। 

- पूर्व पत्रकार माया मीरचंदानी ने इस रिपोर्ट को हास्यास्पद करार दिया है, जबकि स्तंभकार कंचन गुप्ता ने ट्वीट किया, 'हास्यास्पद और इस तरह की झूठी रिपोर्ट न्यू यॉर्क टाइम्स में ही प्रकाशित हो सकती है। साड़ी को हिंदू राष्ट्रवाद से जोड़ना सत्य से छेड़छाड़ है। यही सत्य को नकारना ही नहीं बल्कि उसे गलत से ढंग से परोसने जैसा है।'


 

Related news

Don’t miss out

News