जानें कैसी होगी मोदी की बुलेट ट्रेन और कहां-कहां रुकेगी...

देश | Sept. 13, 2017, 12:01 p.m.


भूपेंद्र सिंह, अहमदाबाद (13 सितंबर):
प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे 14 सितंबर हिंदुस्तान की बुलेट ट्रेन की बुनियाद रखने वाले हैं। अगर आप के जेहन में सवाल उठ रहा है कि कैसी होगी हिंदुस्तान की बुलेट ट्रेन। कहां-कहां रुकेगी बुलेट ट्रेन तो इन सबका खाका तैयार हो गया है।

अगर आप हिंदुस्तान में ट्रेन के मिजाज के साथ-साथ रफ्तार का मजा भी लेना चाहते है तो बस कुछ साल का कीजिए इंतजार। आपका सुपर ट्रेन का सपना अब हकीकत की जमीन पर उतरने को तैयार हो गया है। मतलब ये कि बुलेट ट्रेन के सफर मजा लेने के लिए अब आपको जापान, चीन, और फ्रांस जैसे देशों के महंगे टूर नहीं करने होंगे। अब हिंदुस्तान की जमीन पर उड़ेगी हवा की रफ्तार वाली ट्रेन।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मिशन बुलेट ट्रेन को अमलीजामा पहनाने के लिए 14 सितंबर को जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे अहमदाबाद में बुलेट ट्रेन की परियोजना की बुनियाद रखेंगे, मतलब ये कि पीएम मोदी ने 2014 में देश की जनता से बुलेट ट्रेन दौडाने का जो वादा किया था उसके पहले चरण की शुरूआत मोदी अपने दोस्त शिंजो आबे के साथ एक बड़े कार्यक्रम में करेंगे।

- जापान की शिंकशेन बुलेट ट्रेन की तरह भरेगी रफ्तार।
- सुविधाओं के मामले में सबसे अलग होगी सुपर ट्रेन।
- बुलेट ट्रेन अहमदाबाद को मुंबई से जोड़ेगी।
- जापान कुल लागत का 85 फीसदी सॉफ्ट लोन की तरह देगा।
- बुलेट ट्रेन की कुल लागत एक हजार अरब रुपए आएगी।
- मुंबई-अहमदाबाद की दूरी 8 घंटे से 2 घंटे कर देगी।

मतलब ये कि रफ्तार के साथ साथ आरामदायक सफर तो होगा ही साथ ही साथ आपका कीमती समय भी बच जाएगा, अब अगर आप सोच रहे हैं कि किधर से जाएगी और कहां रुकेगी बुलेट ट्रेन तो उसका भी खाका तैयार हो चुका है। अहमदाबाद से मुंबई के बीच 12 स्टेशन से होकर गुजरेगी मोदी की सपनों की ट्रेन।  

इस प्रॉजेक्ट का दिसंबर 2023 में पूरा होने का अनुमान है। इस ट्रेन में एकसाथ 750 यात्री सफर कर पाएंगे। बुलेट ट्रेन को लेकर मोदी सरकार के साथ साथ गुजरात सरकार के जोश अंदाजा सिर्फ इस बात से लगाया जा सकता है कि वो अभी से बुलेट ट्रेन को देश के विकास का सबसे बड़ा प्रतीक बताने लगे हैं।

कहां-कहां रुकेगी मोदी की बुलेट ट्रेन ?
- 12 रेलवे स्टेशनों में से प्रत्येक पर केवल 165 सेकेंड के लिए रुकेगी।
- 508 किलोमीटर लंबे मार्ग पर कुल 12 स्टेशन होंगे, जिनमें चार महाराष्ट्र में और 8 गुजरात में होंगे।

बुलेट ट्रेन का जमीन पर उड़ना इतना आसान भी नहीं है रास्ते में बड़ी बड़ी चुनौतियां है, जिससे पार पाकर ही बुलेट ट्रेन का सपना साकार हो पाएगा। बड़े-बड़े शहरों, दर्जनों नदियों और समंदर को चीर कर मुंबई और अहमदाबाद के बीच दौड़ेगी सुपर ट्रेन।

- मुंबई में बोइसार-बीकेसी के बीच 21 किलोमीटर की सुरंग बनायी जाएगी।
- सात किलोमीटर का हिस्सा पानी के भीतर होगा।
- पूरी लाइन करीब 20 मीटर की ऊंचाई से गुजरेगी।
- ट्रेन रुट की वजह से जिससे भूमि अधिग्रहण कम होगा।

बुलेट ट्रेन में जब आप अपनी रफ्तार और आरामदायक सफर का लुत्फ उठाकर जब स्टेशन पर पहुंचेगें तो आपकी सपनों की ट्रेन की तरह ही होगा, बुलेट ट्रेन का हाई स्पीड कॉरीडोर जो दुनिया की सभी सुख सुविधाओं से लैस होगा। खासतौर पर बुलेट ट्रेन के यात्रियों के लिए ट्रासपोर्ट की सुविधा नंबर वन क्लास की होगी।

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे दो दिवसीय अहमदाबाद यात्रा के दौरान भारत और जापान के बीच कई और समझौतों पर हस्ताक्षर भी होंगे साथ ही आबे जापान के इंड्रस्ट्रीयल पार्क का उद्घाटन भी करेंगे। तो बस 2023 तक इंतजार कीजिए फिर जमीन पर ट्रेन में बैठकर लीजिए हवा की रफ्तार का मजा।

Related news

Don’t miss out

News