कलयुगी बेटी की करतूत, बूढ़े मां-बाप को किया 'लावारिस'

देश | Jan. 6, 2018, 3:41 p.m.

नई दिल्ली (6 जनवरी): कहते हैं बच्चे बूढ़ापे में मां-बाप के लाठी होते हैं। लेकिन कर्नाटक के हुबली जिले में एक बेटी ने अपने 90 साल के बूढ़े माता-पिता को घर से निकाल दिया। जिसके बाद बुजुर्ग दंपती खुले आसमान के नीचे हुबली बस स्टेशन में रहने को मजबूर होना पड़ा।

 कई दिनों तक बस स्टेंड पर रह रहे 90 साल के सूर्यकांत और 80 साल की कमालमा पर स्थानीय लोगों की नजर पड़ी। जिसके बाद स्थानीय लोगों ने उन्हें राज्य परिवहन निगम के अधिकारी के पास ले गए। लेकिन बुजुर्ग दंपत्ति के पास पहचान पत्र नहीं होने के कारण उन्होंने वृद्धाआश्रम रखने से इनकार कर दिया। बाद में दंपती को किसी तरह से सरकार द्वारा संचालित वृद्धाश्रम में पनाह मिला।

दंपती लक्ष्मेश्वर के मूल निवासी है और उनकी एक बेटी है। कुछ दिन के लिए दंपती ने हुबली के एक मंदिर में अपनी सेवाएं दी। इसके बाद वे अपनी बेटी के पास रहने के लिए उसके घर गए लेकिन बेटी ने उन्हें घर से बाहर निकाल दिया जिसके बाद उन्हें बस स्टैंड में गुजर-बसर करना पड़ा। 

Related news

Don’t miss out

News