मोदीजी नहीं ईश्वर की इच्छा से बनेगा राम मंदिर, कभी नहीं रहा सुन्नी वक्फ बोर्ड का वकील- कपिल सिब्बल

देश | Dec. 7, 2017, 6:39 p.m.

नई दिल्ली (7 दिसंबर): गुजरात चुनाव से ठीक पहले एकबार फिर राम मंदिर का मुद्दा जोरशोर से उठने लगा है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कहा है कि अयोध्या में राम मंदिर तभी बनेगा, जब ईश्वर की इच्छा होगी। उन्होंने कहा किराम मंदिर मोदी जी के कहने से नहीं बनेगा, मामला कोर्ट में है। जब भगवान चाहेगा, तभी राम मंदिर बनेगा। उन्होंने कहा कि हम भगवान पर भरोसा करते हैं, हमें आप पर भरोसा नहीं है मोदी जी। आप राम मंदिर नहीं बनाने जा रहे हैं, मंदिर तभी बनेगा जब ईश्वर की मर्जी होगी। इसका फैसला कोर्ट करेगा।

साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी पर हमला करते हुए कहा कि जब मोदीजी गांधीजी की तरह चरखा कातते हैं तो उम्मीद करता हूं उनकी तरह असत्य भी नहीं बोलतें होंगे। उन्होंने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री कभी-कभी बिना कुछ जाने कमेंट कर देते हैं। अमित शाह और पीएम ने कहा कि मैंने सुन्नी वक्फ बोर्ड का प्रतिनिधित्व किया। जबकि मैं कभी सुन्नी वक्फ बोर्ड का वकील नहीं रहा। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आर्डर में लिखा है कि कपिल सिबल 2894 7226 केस में इक़बाल हाश्मी के लिए पेश हो रहे हैं। लेकिन बीजेपी के लोग पता नहीं कहां से मेरा नाम सुन्नी सेंट्रल वक़्फ़ बोर्फ के वकील के तौर पेश कर रहे हैं। कुछ चैनल गलत दिखा रहे हैं लेकिन उम्मीद करता हूं कि सुधार लेंगे।


सिब्बल ने सवाल किया कि उनके कोर्ट जाने और किसी का प्रतिनिधित्व करने से क्या देश की गंभीर समस्याएं सुलझ जाएंगी। अगर हां, तो पीएम को बताना चाहिए. बयानबाजी से देश का भला नहीं होगा, सिर्फ हमारे देश में विवाद बढ़ जाएंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ध्यान नहीं दिया कि मैंने सुप्रीम कोर्ट में कभी भी सुन्नी वक्फ बोर्ड का प्रतिनिधित्व नहीं किया। इसके बाद भी उन्होंने एक बयान के लिए सुन्नी वक्फ बोर्ड को धन्यवाद दिया। पीएम से गुजारिश है कि वे आगे थोड़ा सावधान रहें।

Related news

Don’t miss out

News