कैसे स्मगलर बनी एक एयर होस्टेस, केबिन में मुलाकात और फिर शुरू हुआ खेल

देश | Jan. 13, 2018, 3:52 a.m.

नई दिल्ली (13 जनवरी): हवाला एजेंट के रूप में काम करने वाली जेट की एयर होस्टेस देवशी कुलश्रेष्ठ के अदालत में इस खुलासे के बाद कि इस हवाला कोरोबार में क्रू के कई और मेंबर शामिल हैं। अदालत ने डीआरआई को निर्देश दिया है कि वो पूरी तहकीकात करे कि इसमें कौन-कौन लोग शामिल हैं। 

इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर सोमवार को डॉलर की स्मगलिंग करते पकड़ी जेट एयरवेज की क्रू मेंबर देवाशी कुलश्रेष्ठ की कहानी किसी बॉलीवुड की मसालेदार फिल्म से कम नहीं है। डीआरआइ ने देवाशी को 4.8 लाख डॉलर्स के साथ पकड़ा था। देवाशी ने नौ बार में हवाला ट्रांजक्शन के जरिए करीब 20 करोड़ रुपये हांगकांग पहुंचाए। इस जुर्म की शुरूआत साल 2017 के अगस्त महीने में हुई थी। जब देवाशी हांगकांग से दिल्ली वापस आ रही थी।

जेट एयरवेज की फ्लाइट में अमित मल्होत्रा नाम का एक बिजनसमैन हांगकांग से दिल्ली वापस लौट रहा था। इस दौरान फ्लाइट में देवशी की हॉस्पिटेलिटी से अमित खासा प्रभावित हुआ। रात के डिनर के बाद जब सभी क्रू मेंबर आराम कर रही थी। तभी अमित देवाशी से मिला और उसकी हॉस्पिटेलिटी की तारीफ की। जिसके बाद दोनों के बीच बातचीत का सिलसिला शुरू हो गया। अमित ने खुद को दिल्ली का एक बिजनेसमैन बताया।

देवशी उसकी बातों से काफी प्रभावित हुईं जिसके बाद दोनों ने एक-दूसरे के कॉन्टैक्ट नंबर एक्सचेंज कर लिए। फिर कुछ दिनों बाद अमित ने देवाशी को एक मैसेज भेजा। जिसमें उसने छुट्टी के दिन मुलाकात के लिए बुलाया। इसी मुलाकात से एक एयरहोस्टेज की स्मगलिंग की दुनिया में घुसने की शुरुआत हुई। मुलाकात में अमित ने देवशी से जल्द अमीर बनने के एक प्लान की चर्चा की। डीआरआई के अधिकारियों ने बताया, अमित ने देवाशी को बताया कि एक बिजनस एसोसिएट को कुछ पैसे पहुंचाकर वह अच्छा खासा पैसा कमा सकती है।

Related news

Don’t miss out

News