मरते-मरते जैश को जिंदा कर गया ये 4 फीट का आतंकी

देश | Feb. 13, 2018, 11:42 a.m.


नई दिल्ली (12 फरवरी): एक बार फिर घाटी में जैश-ए-मोहम्मद सुरक्षाबलों के लिए बड़ा सिरदर्द बन गया है। पिछले एक हफ्ते में सेना और आ‍तंकियों के बीच कई जगहों पर मुठभेड़ हुई है। घाटी में कभी अपना आधार खो चुके आतंकी संगठन जैश को दोबारा जिंदा करने के पीछे नूर मोहम्मद तांत्रे का हाथ है।

हालांकि सेना ने उसे पिछले साल पुलवामा में मार गिराया, लेकिन मरते-मरते भी वह जैश को घाटी में फिर से जिंदा कर गया। लंबाई में सिर्फ चार फीट आतंकी नूर जैश-ए-मोहम्मद का दक्षिण कश्मीर का कमांडर बनने के बाद संगठन का मजबूत नेटवर्क खड़ा कर गया। आतंकी संगठन के पुराने नेटवर्क से जुड़े छिप कर रह रहे आतंकियों को भी उभारने में नूर का बड़ा हाथ रहा है। यही वजह रहा कि वह जल्द ही जैश के लिए पैसों के लेन-देन का भी सर्वेसर्वा बन गया और पाकिस्तान से भी हर तरह की सहायता पाने लगा।

घाटी में नूर को संगठन के ऑपरेशन्स के नेतृत्व की जिम्मेदारी दी गई। पुलिस सूत्रों के मुताबिक त्राल निवासी नूर को जैश के कमांडर गाजी बाबा ने संगठन में भर्ती किया था। 2001 में देश की संसद पर हुए हमले का मास्टरमाइंड गाजी बाबा ही था। अगस्त 2003 में गाजी बाबा मारा गया और नूर को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। 2011 के आतंकी हमले के लिए नूर को उम्रकैद की सजा हुई।

नूर ने श्रीनगर सेंट्रल जेल भेजने की अपील की। अपील मान ली गई और उसे श्रीनगर शिफ्ट कर दिया गया। वर्ष 2015 में वह जमानत पर बाहर आया। इसके बाद उसने दोबारा जैश-ए-मोहम्मद में शामिल होकर घाटी में आतंकी संगठन को मजबूत करना शुरू किया। वह चुपचाप जैश को मजबूत करने में जुटा रहा और अपने मरने से पहले संगठन को घाटी में दोबारा जिंदा कर गया।

Related news

Don’t miss out

News