IND vs SA: दूसरा टेस्ट आज, विराट कोहली की इस वजह से बढ़ी टेंशन

Headlines | Jan. 13, 2018, 9:35 a.m.

दिल्ली ( 13 जून ):  भारत और साउथ अफ्रीका के बीच दूसरा टेस्ट मैच आज से सेंचुरियन में खेला जाएगा. इस मैच में भी भारतीय टीम को पिच से मदद मिलने के चांसेस कम ही हैं, क्योंकि इस मैदान पर साउथ अफ्रीका की जीत का प्रतिशत 77 है। यहां बेस्ट करने वाले टॉप-10 में से 9 पेस बोलर्स हैं और ये सभी साउथ अफ्रीका से हैं। यहां एक टेस्ट में बेस्ट बाॅलिंग का रेकॉर्ड कागिसो रबाडा के नाम है। 2010 में यहां भारत को पराजय की तरफ धकेलने वाले मोर्ने मोर्केल आज भी उसी धार और रफ्तार के साथ बॉलिंग कर रहे हैं। 

इतिहास और आंकड़े भारतीय खेमे को बेचैन करने वाले हैं। सबसे बड़ा सवाल है कि केपटाउन से ज्यादा बाउंस और स्पीड वाली पिच पर क्या होगा? मगर, इसी तरह के चैलेंज का तो इंतजार करते रहे हैं विराट कोहली।

इसमें कोई शक भी नहीं कर रहा। मगर, उन उम्मीदों पर खरा उतरना का वक्त आ गया है। विराट की बड़ी सोच, हार्दिक के युवा जोश, बुमराह के आत्मविश्वास, पुजारा के धैर्य के असली टेस्ट की घड़ी आ गई है। अपनी आन-बान-शान की रक्षा के लिए टीम इंडिया को एक नंबर का खेल दिखाना होगा। 

सुपरस्पोर्ट पार्क रफ्तार के सौदागरों का ड्रीम ग्राउंड है। हालांकि, सिर्फ कंधे की ताकत और पिच के सपोर्ट से बात नहीं बनती। पेसर्स को उस लेंथ का भी पता होना चाहिए जिससे बल्लेबाज गलती को मजबूर होते हैं। वर्ना बाउंस का फायदा बल्लेबाजों के हक में भी जा सकता है। वह नजदीकी फील्डर्स के ऊपर से बॉल उड़ा सकते हैं। भारतीय बल्लेबाजों के लिए सुकून की बात होगी कि सेंचुरियन की पिच के एक-एक इंच को सही-सही जानने वाले डेल स्टेन इस मैच में नहीं होंगे। 

उनके नाम यहां 9 टेस्ट मैचों से 56 विकेट हैं। वैसे मोर्ने मोर्केल (7 टेस्ट में 28 विकेट), वेर्नोन फिलैंडर 5 टेस्ट में 22 विकेट), कागिसो रबाडा (2 टेस्ट में 18 विकेट) भी यहां बोलिंग एंजॉय करते रहे हैं। स्टेन की जगह लेने की होड़ में चार पेस बोलर्स हैं, जिनमें लुंगी एंगिदी की उम्मीदें ज्यादा हैं। 21 साल का यह पेस बोलर रबाडा की तरह ही फास्ट है और उसने तीन टी20 इंटरनैशनल मैच खेले हैं। भारतीय टीम के उसी पेस अटैक के साथ उतरने की उम्मीद है, जिसने केप टाउन टेस्ट की दूसरी इनिंग्स में मेजबानों को 130 पर समेट दिया था। 

Related news

Don’t miss out

News