Download app
We are social

होलिका दहन आज, जानें- होली पूजन और दहन का सही समय


नई दिल्ली (12 मार्च): होली से एक दिन पहले आज देशभर में होलिका दहन की तैयारियां जोरों पर है। भद्रकाल के चलते रात साढ़े आठ बजे के बाद होलिका का दहन होगा। भद्रकाल में होलिका दहन अशुभ माना जाता है। इसलिए भद्रा के बाद ही होलिका दहन होगा। होलिका दहन के लिए चौघडिय़ा का अमृतकाल साढ़े आठ से नौ बजे तक का है। हालांकि इसके बाद भी दहन कर सकते हैं।


ज्योतिषशास्त्र के मुताबिस होलिका दहन या पूजन भद्रा के मुख को त्याग करके करना शुभफलदायक होता है। फाल्गुन मास की पूर्णिमा को प्रदोष काल में होलिका दहन करने का विधान है।


पूजन विधि होली में आग लगाने से पूर्व होली का पूजन करने का विधान है। पूजा करते वक्त पूर्व या उत्तर की ओर मुख करके बैठना चाहिए।होलिका के चारों ओर सात परिक्रमा कच्चे सूत को होलिका के चारों ओर सात परिक्रमा करते हुए लपेटना चाहिए। होलिका जलाने से पूर्व विधिवत पूजन करने के बाद जल से अर्घ्य देना चाहिए।


अन्त में सभी पुरुषों को रोली का तिलक लगाना चाहिए। होली की अग्नि को संकने के बाद जली हुई राख को अगले दिन सुबह घर में लाना शुभ रहता है। होली की राख का शरीर पर लेप भी करना चाहिए।

Related news

Don’t miss out