अमेरिका: पहली बार किसी भारतीय को दी जाएगी मौत की सजा

दुनिया | Jan. 11, 2018, 5:08 p.m.

नई दिल्ली(11 जनवरी): मौत की सजा पाए पहले भारतीय अमेरिकी कैदी के मृत्युदंड की तारीख अगले महीने तय कर दी गई है। 32 साल के रघुनंदन यंदमुरी को एक मासूम और उसकी भारतीय दादी की हत्या के जुर्म में दोषी पाया गया है। 

- रघुनंदन को 2014 में मौत की सजा दी गई थी। उन्होंने 61 साल की भारतीय महिला और उनकी 10 महीने की नातिन को अगवाकर हत्या कर दी थी। 

- इस मामले को फिरौती के लिए अपहरण के तौर पर देखा गया था। स्थानीय अधिकारियों के मुताबिक रघुनंदन को मौत की सजा दिए जाने की तारीख 23 फरवरी निर्धारित की गई है। हालांकि उनकी सजा स्थगित भी की जा सकती है क्योंकि पेन्सिल्वेनिया के गवर्नर टॉम वुल्फ ने 2015 से मृत्युदंड पर रोक लगा रखी है। रघुनंदन पहले भारतीय अमेरिकी हैं, जो मौत की सजा का सामना कर रहे हैं। संघीय अधिकारियों ने आरोप लगाया था कि फिरौती के लिए ये हत्याएं की गई थीं। 

- आंध्र प्रदेश के रहने वाले रघुनंदन H-1B वीजा पर अमेरिका आए थे। उन्होंने इलेक्ट्रिकल और कंप्यूटर साइंस इंजिनियरिंग में डिग्री ली है। दोषी ठहराए जाने के बाद उन्होंने कहा था कि उन्हें मौत की सजा दी जाए। बाद में उन्होंने अपनी सजा को लेकर अपील की, लेकिन पिछले साल अप्रैल में यह खारिज हो गई। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक उन्हें जहरीला इंजेक्शन देकर 23 फरवरी को मौत की सजा दी जाएगी। 

- पेन्सिल्वेनिया प्रशासन के एक बयान के मुताबिक, 'मौत की सजा पर कानून के मुताबिक जब गवर्नर एक निश्चित समयसीमा में मृत्युदंड के वारंट पर हस्ताक्षर नहीं करते हैं तो सेक्रटरी ऑफ करेक्शंस 30 दिनों के भीतर मृत्युदंड का नोटिस जारी कर सकते हैं।' पेन्सिल्वेनिया में पिछले 20 वर्षों से किसी को भी मृत्युदंड की सजा नहीं दी गई है। 
 

Related news

Don’t miss out

News