चीन की चालाकी से निपटने के लिए अब भारत ने उठाया ये बड़ा कदम

देश | Oct. 13, 2017, 7:42 p.m.

नई दिल्ली ( 13 अक्टूबर ): डोकलाम में चीन के साथ विवाद के बाद भारत अब सीमा पर ज्यादा चौंकन्ना हो गया है। भारत ने इसके लिए जबर्दस्त तैयारी भी शुरू कर दी है और सीमा की रक्षा के लिए बड़े पैमाने पर इसके नजदीक निर्माण कार्य शुरू करने वाला है। भारत चीन की सरहदों से लगती करीब 4 हजार किलोमीटर लंबी सीमा पर आधारभूत संरचना को बढ़ाने वाला है। इसमें विवादित इलाके के नजदीक भी सड़क निर्माण शुरू होने वाला है। 

भारत ने सीमावर्ती इलाकों में आधारभूत ढ़ांचे के निर्माण के लिए योजना बनाई है। सेना ने कहा कि भारत-चीन सीमा से लगे नीति, लिपुलेख, थांगला 1 को सड़क से जोड़ने का फैसला किया गया है। इसे 2020 तक पूरा करने की योजना है।

सेना ने कहा, 'सड़क सीमा संगठन (बीआरओ) को अतिरिक्त धन मुहैया कराने का भी फैसला किया गया है ताकि सड़क और अन्य ढांचे को मजबूत बनाया जा सके।' सेना ने नई दिल्ली में चल रहे कमांडरों की कॉन्फ्रेंस में यह फैसला लिया है। डायरेक्टर जनरल स्टाफ ड्यूटी ले. जनरल विजय सिंह ने कह, 'उत्तरी सेक्टर में मजबूत निर्माण गतिविधियों को बढ़ावा दिया जाएगा ताकि सेना किसी भी तरह की परिस्थिति से निपटने के लिए हर समय तैयार रहे।'

आपको बता दें कि चीन का लंबे समय से भारत के साथ सीमा विवाद रहा है। दोनों देशों के बीच 3,488 किमी की सीमा है, जिसका ज्यादातर भाग विवादित है।
चीन व भारत ने दो महीने से ज्यादा समय तक सिक्किम क्षेत्र में डोकलाम में चले सीमा गतिरोध को बीते महीने समाप्त किया।

पिछले महीने के अंत में खबर आई थी कि चीन डोकलाम में अपने मौजूदा सड़क को 10 किलोमीटर चौड़ा कर रहा है। यहीं पर भारतीय और चीनी सेना 73 दिनों तक आमने-सामने आ गई थी। भारतीय विदेश मंत्रालय ने हालांकि बाद में कहा था कि यहां यथापूर्व स्थिति बनी हुई है।

 

Related news

Don’t miss out

News