छक्का मारकर विलेन भी बन चुके हैं कार्तिक, मिली थी इतनी बड़ी सजा

खेल | March 19, 2018, 8:08 a.m.

नई दिल्ली(19 मार्च): कोलंबो में ट्राई सीरीज़ के फाइनल में दिनेश कार्तिक ने आखिरी गेंद पर छक्का जड़कर टीम इंडिया को जीत दिलाई। कार्तिक के इस छक्के से उन्होंने कई रिकॉर्ड भी अपने नाम किए तो वहीं बांग्लादेशी खिलाड़ियों का दिल भी तोड़ा। 

पहली बार किसी टूर्नामेंट के फाइनल में आखिरी गेंद पर छक्का जड़कर किसी टीम ने मुकाबला जीता। जब कार्तिक मैदान पर उतरे तो टीम इंडिया के जीत की उम्मीदें कम थी  लेकिन कार्तिक ने वो कर दिखाया जो हर मुकाबले में देखने को नहीं मिलता।

कार्तिक ने आखिरी गेंद पर छक्का जड़कर बांग्लादेशी खिलाड़ियों का दिल तोड़ा और भारत को ट्राई सीरीज़ में जीत दिला दी। भले ही आज छक्का जड़कर कार्तिक हीरो बने लेकिन कुछ साल पहले कार्तिक इसी तरह से छक्का जड़कर जीत दिलाने के लिए विलेन बने थे।

लंका के खिलाफ साल 2009 में कार्तिक ने छक्का मारकर टीम इंडिया को जीत दिलाई थी लेकिन सचिन तेंदुलकर शतक से मात्र 4 रन से चूक गए थे। 
इस मुकाबले के बाद कार्तिक को प्लेइंग XI से ड्रॉप कर दिया गया था। लेकिन आज बांग्लादेश के खिलाफ इस छक्के ने कार्तिक को फिर से हीरो बना दिया। 

टॉस जीतकर पहले गेंदबाज़ी करने उतरी टीम इंडिया ने बंग्लादेश को 20 ओवर में 166 के स्कोर पर रोक दिया। इसके बाद बल्लेबाज़ी करने उतरी टीम इंडिया की तरफ से रोहित शर्मा ने कप्तानी पारी खेली। 

रोहित ने 3 छक्के और 4 चौकों की मदद से शानदार अर्धशतकीय पारी खेली तो वहीं लोकेश राहुल ने 24 और मनीष पांडे ने 28 रन की पारी खेली। लेकिन मैच के असली हीरो तो दिनेश कार्तिक ही बने। मैदान पर उतरते ही पहली ही गेंद पर कार्तिक ने छक्का जड़ा। इसके बाद कार्तिक ने रूकने का नाम नहीं लिया और आखिरी गेंद पर छक्का जड़कर टीम इंडिया को जीत दिलाई। 

Related news

Don’t miss out

News