रडार पर 23 लाख खाते, इनमें कहीं आपका भी तो नहीं

बिजनेस | Nov. 14, 2017, 1:27 p.m.


नई दिल्ली (14 नवंबर): नोटबंदी में 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोट बैंक में जमाकर करने वाले काले धन के कुबेरों की अब नींद उड़ने वाली है। आयकर विभाग ने 23 लाख से अधिक ऐसे बैंक खातों की पहचान की है, जिनमें नोटबंदी के दौरान भारी भरकम कैश जमा हुआ।

आयकर विभाग ने ऑपरेशन क्लीन मनी के तहत बैंकों से उन खातों की जानकारी देने के लिए कहा था कि जिनमें नोटबंदी के दौरान भारी-भरकम नकदी जमा हुई है। ऑपरेशन क्लीन मनी के पहले चरण में 17.92 लाख बैंक खातों की पहचान की है। जिसके बाद मई में ऑपरेशन क्लीन मनी का दूसरा चरण शुरू किया। इस दौरान 5.68 लाख नए खातों की पहचान की गई। इस तरह 23 लाख से अधिक बैंक खातों पर विभाग नजर रख रहा है।

विभाग ने नोटबंदी के बाद सर्वे और छापेमारी की कार्रवाई में अब तक 23,000 करोड़ रुपये से अधिक अघोषित आय भी पकड़ी है। सूत्रों बताते हैं कि ऑपरेशन के पहले चरण में 900 समूहों पर आयकर विभाग ने छापेमारी की। इसमें उन्होंने 16,398 करोड़ रुपये की अघोषित आय स्वीकार की। इसमें विभाग ने 636 करोड़ रुपये कैश सहित 900 करोड़ रुपये की संपत्ति भी जब्त की। इसके अलावा 8,239 मामलों में सर्वे कार्रवाई की गई। इसमें विभाग ने 6,746 करोड़ रुपये की अघोषित आय पकड़ी। विभाग ने 400 से अधिक मामले जांच के लिए आयकर विभाग और सीबीआइ के पास भी भेजे हैं।

Related news

Don’t miss out

News