चीन की अमेरिका समेत पूरी दुनिया को चुनौती, स्टील्थ फाइटर प्लेन को वायुसेना में किया शामिल

दुनिया | Feb. 13, 2018, 2:12 a.m.


बीजिंग (13 फरवरी): चीन लगातार अपनी सैन्य शक्ति को बढ़ाने में जुटा है। चीन ने अपने लड़ाकू बेड़े में रडार को मात देने वाले स्टील्थ फाइटर प्लेन को वायुसेना में शामिल किया है। चीन ने ऐसा उस वक्त किया है जब उसकी विस्तारवादी महत्वाकांक्षा अपने चरम पर है और वो लगातार दुनियाभर को चुनौती देने में जुटा है। इस लड़ाकू विमान के चीनी वायुसेना में आने के बाद अब जंग लड़ने की उसकी क्षमता काफी बढ़ जाएगी। इससे चीन को एशिया-प्रशांत क्षेत्र में अमेरिका और जापान के वर्चस्व को तोड़ने में मदद मिलेगी। 

रडार से बच निकलने में सक्षम इन लड़ाकू विमानों को शामिल करने के बाद, चीन की क्षमता में इजाफा होगा और चीन क्षेत्र में बमवर्षक लड़ाकू विमानों को शामिल करने वाला पहला देश होगा। जानकारों के लिए चीन की ये पहल भारत के लिए भी बहुत मायने रखती है क्योंकि भारतीय वायु सेना को अब तक स्टील्थ (रडार से बच निकलने में सक्षम) लड़ाकू विमान नहीं मिला है। इससे सामरिक स्तर पर, खासकर बेहद ऊंचाई वाले तिब्बती क्षेत्र में बड़ा अंतर आएगा। 

चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) वायु सेना के प्रवक्ता शीन जिंके ने पिछले सप्ताह कहा था कि चीनी वायु सेना के लड़ाकू अभियान में नवीनतम J-20 लड़ाकू विमानों को शामिल किया है। जिंके ने कहा कि समग्र लड़ाकू क्षमता हासिल करने की दिशा में J-20 को शामिल किया जाना एक महत्वपूर्ण कदम है। आपको बता दें कि केवल अमेरिका की वायु सेना के पास ही लड़ाकू (स्टील्थ) विमानों का बेड़ा है। J-20 चौथी पीढ़ी के मध्यम और लंबी दूरी तक मार करने में सक्षम लड़ाकू विमान है। वर्ष 2011 में इसने पहली बार उड़ान भरी थी। गुआंगदोंग प्रांत के झूहाई में 11 वें एयर शो चाइना में पहली बार इसे सार्वजनिक किया गया।

Related news

Don’t miss out

News