अगर आपके पास आए ऐसा फोन तो भूलकर भी ना करें बात

बिजनेस | March 31, 2018, 11:48 a.m.


नई दिल्ली (31 मार्च): अगर आपको भी टे‍लिकॉम प्रोवाइडर का कोई फोन आता है तो सावधान हो जाएं, क्योंकि इन‍ दिनों लोगों को 'प्राइवेट नंबर' दिलाने के नाम पर कुछ ऐसे फोन आ रहे हैं, जिनके चक्कर में फंसकर वह मोटी रकम गंवा बैठे हैं।

दिल्ली पुलिस ऐसे ठगों की जांच में जुटी है, जो इस तरह की कॉल कर कई कारोबारियों को चूना लगा चुके हैं। हाल ही में एक कारोबारी के बेटे से 12 लाख रुपये की ठगी का मामला सामने आने के बाद पुलिस जांच में जुटी है। ठग ने फोन पर टेलिकॉम कंपनी के मुंबई स्थित हेडऑफिस से कॉल करने का दावा किया था।

ठगी का शिकार हुए चेतन ने बताया कि उसे एक नंबर से कॉल आई थी। कॉलर ने बताया था कि कंपनी कुछ कस्टमर्स को 300 वीआईपी नंबर ऑफर कर रही है। जब भी आप किसी को कॉल करेंगे तो रिसीवर के मोबाइल पर आपका नंबर 'प्राइवेट नंबर' के तौर पर फ्लैश करेगा। उसको बताया गया कि वह इस नंबर को बिटकॉइन के जरिए खरीद सकता है और बाद में ऊंचे दाम पर बेच भी सकता है। ठग ने दावा किया कि मुंबई पुलिस कमिश्नर ने भी ऐसा एक नंबर 5 लाख रुपये में खरीदा था और बाद में इसे 57 लाख में रुपये में बेच दिया।

कॉलर ने एक नंबर 4 लाख रुपये में देने का ऑफर दिया। इसके बाद दोनों के बीच 2 लाख रुपये में एक नंबर का सौदा हुआ। चेतन ने 6 लाख रुपये खर्च करते हुए तीन नंबर बुक करा लिए। इसके बाद चेतन ने कॉलर के बताए बैंक अकाउंट में रकम ट्रांसफर कर दी। लेकिन ठग ने चेतन को दोबारा कॉल करते हुए कहा कि पेमेंट में कुछ गड़बड़ी हो गई है, इसलिए उसे दोबारा रकम ट्रांसफर करनी होगी और पिछली रकम वापस आ जाएगी। इस पर चेतन ने 6 लाख रुपये की रकम दोबारा आरटीजीएस से ट्रांसफर कर दी।

इतनी रकम ऐंठने के बाद चेतन से कहा गया कि वह नंबर रिसीव करने के लिए कुछ दिनों का इंतजार करे। कुछ दिन बीतने के बाद कॉलर तरह-तरह के बहाने बनाने लगा और फिर अपना फोन ही स्विच ऑफ कर लिया। इसके बाद चेतन ने अपने परिवार के सदस्यों को इस बारे में बताया और पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। फिलहाल मामले की जांच जारी है।

Related news

Don’t miss out

News