बांग्लादेशी से जुड़े बोधगया को दहलाने की साजिश के तार

देश | Feb. 4, 2018, 10:18 a.m.


अमरदेव पासवान, अमिताभ ओझा, पटना (4 फरवरी): तिब्बती धर्म गुरु दलाई लामा के बोधगया दौरे के दौरान मिले बम के मामले में पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद और सिलिगुड़ी से दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। दोनों का ताल्लुक बांग्लादेश के आतंकी संगठन जमात उल मुजाहिदीन से बताया गया है।

एसटीएफ का दावा है कि दोनों आतंकियों ने बम केस को लेकर अहम खुलासे किए हैं। तिब्बती धर्म गुरु दलाई लामा के दौरे के वक्त प्रसिद्ध महाबोधि मंदिर परिसर में बम मिलने से हड़कंप मच गया था। हालांकि बोधगया को एक बार फिर दहलाने की उस साजिश को नाकाम कर दिया गया। लेकिन इस मामले के तार अब बांग्लादेश के आतंकी संगठन जमात उल मुजाहिदीन से जुड़े होने का बड़ा खुलासा हुआ है।

इस सिलसिले में कोलकाता पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स ने जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश के दो आतंकवादियों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आतंकियों के नाम शेख पैगंबर और शेख जमीरूल बताए गए हैं। उनके पास से 50 किलो अमोनियम नाइट्रेट भी बरामद किया गया है, जिसका इस्तेमाल खतरनाक विस्फोटक के तौर पर किया जाता है। इसके अलावा उनके पास से लैपटॉप, मोबाइल और कट्टरवाद से जुड़ी कुछ किताबें भी बरामद की गई हैं। दोनों आतंकियों को गुरुवार को बैकशाल कोर्ट में पेश किया गया। जहां से उन्हें 14 दिनों की रिमांड पर भेज दिया गया।

कोलकाता पुलिस की एसटीएफ के मुताबिक दोनों आतंकियों ने शुरुआती पूछताछ में ये कबूल किया है कि बोधगया में आईईडी लगाने वाली आतंकियों की टीम में वो भी शामिल थे। पकड़े गए आतंकियों से दलाई लामा के दौरे के दौरान बोधगया को दहलाने की बड़ी साजिश का खुलासा हुआ है।

इस बात का पता भी चला है कि बोधगया को दहलाते हुए दलाई लामा को निशाना बनाकर बांग्लादेशी आतंकवादी रोहिंग्या मुसलमानों पर हो रहे अत्याचारों का बदला लेना चाहते थे। दो आतंकियों के पकड़े जाने के बाद इस मामले में अब बाकी गुनहगारों के भी गिरफ्त में आने की उम्मीद बढ़ गई है। उम्मीद की जा रही है कि इन खुलासों से इस मामले की जांच कर रही एनआईए को बड़ी मदद मिलेगी। और साजिश की सारी परतें खुलकर सामने आएंगी।

Related news

Don’t miss out

News