राष्ट्रपति चुनाव: रामनाथ कोविंद के नाम पर नेताओं की प्रतिक्रिया, जानें किसने क्या कहा

देश | June 19, 2017, 10:50 a.m.

नई दिल्ली (19 जून): भाजपा ने एनडीए की तरफ से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार का सोमवार को ऐलान कर दिया। दलित समुदाय से संबंध रखने वाले बिहार के गवर्नर रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाया गया है।


भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कोविंद के नाम का ऐलान किया। अमित शाह ने बताया कि कोविंद के बारे में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को जानकारी दे दी गई है। शाह के मुताबिक, पार्टी ने गरीब समाज से ताल्लुक रखने वाले शख्स को राष्ट्रपति बनाने का फैसला किया है।


कोविंद के नाम का ऐलान करके अमित शाह और पीएम नरेंद्र मोदी ने राजनीतिक जानकारों को चौंका दिया है। राष्ट्रपति उम्मीदवार को लेकर लग रही राजनीतिक अटकलों में कहीं भी कोविंद का नाम सामने नहीं आया था। राजनीतिक जानकार मानते हैं कि दलित चेहरा होने की वजह से कोविंद का विरोध होने की संभावना न के बराबर है।


राजनेताओं के बयान

-तेलंगाना के सीएम और टीआरएस चीफ केसी राव ने रामनाथ कोविंद का समर्थन करने का ऐलान किया है।


- आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि टीडीपी NDA का पूरा समर्थन करेगी।


-शरद यादव ने कहा कि विपक्षी दलों की बैठक में नाम पर विचार करेंगे। NDA ने जो नाम दिया है उसपर भी बात करेंगे।


-शिवसेना ने कहा कि अमित शाह जी ने उद्धव जी को रामनाथ कोविंद का नाम बताया था। हम कुछ दिनों में समर्थन पर निर्णय करेंगे।  


-कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि एनडीए द्वारा चुने गए राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार पर कांग्रेस को कुछ नहीं कहना है। कांग्रेस ने कहा कि सभी विपक्षी दल साथ बैठकर राष्ट्रपति उम्मीदवार पर फैसला लेंगे।


- मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा कि जो लोग रामनाथ कोविंद का सहयोग नहीं करेंगे उन्हें दलित विरोधी माना जाएगा।


-सीपीआई(एम) के नेता सीताराम येचुरी ने कहा कि रामनाथ कोविंद जी आरएसएस की दलित शाखा के प्रमुख थे, वह एक राजनीति हुई ना, ये सीधा-सीधा राजनीतिक टकराव है" उन्होंने कहा, "विपक्षी पार्टियां 22 जून को बैठक करेंगी। आजाद हिंदुस्तान के इतिहास में एक ही बार ऐसा हुआ है कि जब राष्ट्रपति निर्विरोध निर्वाचित हुए हैं"।


रामनाथ कोविंद के नेतृत्व में भारत की उन्नति होगी और पिछड़ी जातियों को न्याय मिलेगाः नितिन गडकरी, केंद्रीय मंत्री

प्रणव मुखर्जी, सुषमा स्वराज या फिर लालकृष्ण आडवाणी जैसी शख्सियत को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया जाना चाहिए थाः ममता बनर्जी

मायावती ने कहा कि वह दलित चेहरा हैं, उनके नाम से कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन तब जब विपक्ष कोई और लोकप्रिय दलित चेहरा घोषित नहीं करता। उन्होंने कहा कि कोविंद RSS से जुड़े रहे हैं, उनकी राजनीतिक पृष्ठभूमि से सहमत नहीं हूं।

ममता बनर्जी ने कहा कि भारत में और भी बड़े दलित चेहरे हैं। वह बीजेपी के दलित मोर्चा के नेता रहे हैं, इसलिए उन्हें उम्मीदवार बनाया गया है। उन्होंने कहा कि 22 जून को विपक्ष की बैठक होगी, उसके बाद ही हम अपने फैसले की घोषणा करेंगे।

नीतीश कुमार ने कहा कि रामनाथ कोविंद जी ने बिहार के राज्यपाल होने के नाते बेहतरीन काम किया है, उन्होंने निष्पक्ष तरीके से काम किया है और बिहार सरकार के साथ अच्छा संबंध बनाए रखा।


Related news

Don’t miss out

News