BREAKING: इंटरनेशनल कोर्ट में पाकिस्तान को बड़ा झटका, भारत की बड़ी जीत



हेग (18 मई): हेग स्थित इंटरनेशनल कोर्ट यानी ICJ में कुलभूषण जाधव मामले में अपना फैसला सुना दिया है। कोर्ट ने पाकिस्तान की सारी दलीलें खारिज कर दिया है। कोर्ट ने कहा कि वियना संधि के तहत पाकिस्तान को जाधव के मामले में भारत को काउंसर एक्सेस देना चाहिए था।


ICJ की बड़ी बातें...

- कुलभूषण जाधव को पुख्ता तौर पर जासूस नहीं तय किया जा सकता
- पाकिस्तान को जाधव मामले में भारत को काउंसलर एक्सेस देना चाहिए था
- भारत ने वियना संधि के तहत अपील की, उसके तहत उसकी मांग सही है
- दोनों देश यह मानते हैं कि जाधव भारतीय हैं
- तय वक्त के भीतर जाधव पर अर्जी नहीं दी गई


इससे पहले 15 मई को भारत और पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव को लेकर ICJ  अपना-अपना पक्ष रखा था। ICJ में भारत ने पहले अपना पक्ष रखा। उसके बाद पाकिस्तान ने अपना पक्ष रखा। इसके बाद कोर्ट ने 18 मई को फैसला सुनाने की बात कही थी।


पाकिस्तान ने ICJ में बिना सबूतों के पुरानी बातें ही दोहराईं। वियेना समझौते के उल्लंघन को लेकर लग रहे आरोपों को नकारते हुए पाकिस्तान ने एक बार फिर दावा किया कि भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव को बलूचिस्तान से गिरफ्तार किया गया था और उसने भारत के साथ सबूत साझा करने के साथ ही जांच में शामिल होने की अपील की गई थी। कुलभूषण को राजनयिक पहुंच देने से अपने 16 बार इनकार किए जाने पर पाकिस्तान ने कहा कि जाधव इसके योग्य नहीं। पाकिस्तान ने भारत के साथ सबूत साझा करने का भी झूठा दावा किया। पाकिस्तान ने कहा कि जांच की डीटेल्स मुहैया कराए जाने के बाद भी भारत ने चुप्पी साधे रखा और कोई जवाब नहीं दिया।


दलील शुरू करने से पहले ही पाकिस्तान को उस समय बड़ा झटका लगा जब कोर्ट ने उसे कुलभूषण जाधव के कथित कबूलनामे वाला विडियो चलाने से रोक दिया, जबकि वह इसे अपना सबसे बड़ा 'सबूत' बताता रहा है। भारत और पाकिस्तान ने अपना-अपना पक्ष रख दिया है और अब नजर कोर्ट के फैसले पर है।

भारत के आरोपों से बौखलाए पाकिस्तान ने कहा कि कुलभूषण जाधव के मामले को ICJ में लाना ही गलत है। पाकिस्तान ICJ का ही दायरा सीमित करते हुए कहा कि यह आपराधिक मामलों की सुनवाई नहीं करता। पाकिस्तान के काउंसिल क्यूसी खावर कुरैशी ने कहा कि जाधव को बलूचिस्तान में गिरफ्तार किया गया उसने ईरान के रास्ते पाकिस्तान में प्रवेश किया था। कुलभूषण जाधव के पास राजनयिक पहुंच की योग्यता नहीं। वियेना समझौता ऐसे जाजूस पर लागू नहीं होता, जो आंतकी गतिविधियों में शामिल रहा हो।

पाकिस्तान की दलील...

- पाकिस्तान ने कहा कि इस मामले को कोर्ट को खारिज कर देना चाहिए

- पाकिस्तान ने कहा कि जाधव को फांसी देने की कोई जल्दी नहीं है

- कोर्ट को विडियो देखना चाहिए, इसमें जाधव ने अपने जुर्म कबूल किया है

- पाकिस्तान ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर ICJ फैसला नहीं सुना सकता है

- जाधव भारत के नागरिक हैं और उनके पास फर्जी पासपोर्ट पाया गया। उनके पास दो पासपोर्ट थे

- पाकिस्तान के वकील ने कहा कि भारत जाधव मामले में ICJ का राजनीतिक इस्तेमाल कर रहा है

- पाकिस्तान ने जाधव की फांसी के लिए उनके कथित कबूलनामे का जिक्र किया। पाक वकील ने कहा कि कोर्ट को जाधव के कबूलनामे को सुनना चाहिए। यह हर जगह उपलब्ध है

- पाकिस्तान ने कहा कि जाधव ईरान के रास्ते पाकिस्तान में घुसे थे

- यह कोर्ट क्रिमनल अपीलेट कोर्ट नहीं है

- पाकिस्तान ने कहा कि जाधव के मामले में 6 महीने तक सुनवाई चली जबकि कई देशों में केवल 1-2 हफ्ते में ही कैपिटल पनिश्मेंट दिया गया है

- पाकिस्तान ने कहा कि जाधव का कन्फेशन विडियो 'पुख्ता सबूत' है

- पाकिस्तान ने कहा कि उसने जांच की डीटेल भारत को भेजी थी

- जाधव को पाकिस्तान के बलूचिस्तान से पकड़ा गया था

- भारत को आरोपों और पासपोर्ट की कॉपी दी गई थी, लेकिन भारत ने इसपर कोई टिप्पणी नहीं की

- जाधव के मामले में वियना कन्वेंशन लागू नहीं होता है

- पाकिस्तान ने कहा था कि कमांडर जाधव को काउंसलर ऐक्सस नहीं दिया जाना चाहिए

- पाकिस्तान के वकील ने कहा कि जाधव मामले में भारत की याचिका को खारिज किया जाए



भारत की ओर से वरिष्ठ हरीश साल्वे ने जोरदार तरीके से भारत का पक्ष रखा। हरीश साल्वे ने कहा कि पाकिस्तान ने विएना समझौते का उल्लंघन किया है। कुलभूषण जाधव को राजनयिक मुलाकात का मौका दिए बिना गिरफ्तार कर रखा गया और अब उन पर फांसी की तलवार लटक रही है।


ICJ के सामने साल्वे की दलील...

- भारत चाहता है कि कुलभूषण जाधव को लेकर पाकिस्तान की सैन्य अदालत के फैसले को अमान्य करार दिया जाए

- पाकिस्तान ICJ के फैसले को चुनौती नहीं दे सकता है

- भारत ने ICJ को बताया कि उसे डर है कि इस सुनवाई के पूरा होने से पहले ही कुलभूषण जाधव को फांसी पर चढ़ा दिया जाएगा

- पाकिस्तान ने राजनयिक मदद न देने की भी कोई वजह नहीं बताई

- जाधव को सिर्फ बयान के आधार पर आरोपी बताया गया है। यह बयान जाधव से उस वक्त जबरन लिया गया था जब वह सेना की हिरासत में थे

- पाकिस्तान ने कूटनीतिक नियमों का पालन नहीं किया है

- पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव के खिलाफ तैयार की गई चार्जशीट भारत को नहीं दी

- कुलभूषण जाधव को अपना पक्ष रखने के लिए नहीं दिया गया वकील

- पाकिस्तान ने जाधव के अधिकारों का हनन किया, भारत को जानकारी नहीं कि जाधव को पाकिस्तान में कहां रखा गया है

- प्रेस विज्ञप्ति के जरिए जाधव की सजा के बारे में जानकारी दी गई

-  भारत को डर है कि इस सुनवाई के पूरा होने से पहले ही कुलभूषण जाधव को फांसी पर चढ़ा दिया जाएगा

- भारत चाहता है कि कुलभूषण जाधव को लेकर पाकिस्तान की सैन्य अदालत के फैसले को अमान्य करार दिया जाए

- जाधव को ईरान से अगवा किया गया और जबरदस्ती बयान लिया गया

- जाधव के परिवारवालों की तरफ से वीजा आवेदन अभी भी लंबित है

- पाकिस्तान की तरफ से जाधव के ट्रायल को लेकर कोई दस्तावेज भारत को नहीं दिया गया

- मौजूदा स्थिति बेहद गंभीर है और इसीलिए भारत ने ICJ के हस्तक्षेप की मांग की है

- जाधव की गिरफ्तारी के बाद भारत को कोई जानकारी नहीं दी गई

- पाकिस्तान ने वियना संधि का उल्लंघन किया, भारत की मांगें नहीं मानी


Breaking News