Download app
We are social

भारत को 'मनाने' में लगा चीन, बोला- हाई स्पीड रेल प्रोजेक्ट में मदद को तैयार

नई दिल्ली(13 सितंबर): जापान के पीएम शिंजो आबे बुलैट ट्रेन की नींव रखने के लिए दो दिन के भारत दौरे पर हैं। इसके पहले चीन का बयान भी इसी मुद्दे पर आया। बुधवार को चीन ने कहा कि वो हाई स्पीड रेल प्रोजेक्ट्स में भारत की मदद करना चाहता है। 

- खास बात ये है कि चीन पहले भी भारत में हाई स्पीड रेल प्रोजेक्ट को लेकर ऑफर दे चुका है लेकिन भारत ने चीन की बजाय जापान को तवज्जो दी। अब चीन ने एक बार फिर हाई स्पीड रेल प्रोजेक्ट पर ऑफर दिया है। हालांकि, भारत ने चीन के ऑफर पर अब तक कोई रिएक्शन नहीं दिया है।

- चीन अपनी हाई स्पीड रेल टेक्नोलॉजी की काफी जोर-शोर से मार्केटिंग करता रहा है। दुनिया के कई देशों में चीन ने इसके लिए कैंपेन भी चलाए। 

- 2014 में जब मोदी सरकार सत्ता में आई तो उसने बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट को अमलीजामा पहनाने का एलान किया। इसके बाद चीन ने भारत में इस प्रोजेक्ट को हासिल करने के लिए काफी लॉबिंग की। 

- नई दिल्ली और चेन्नई के बीच हाई स्पीड रेल प्रोजेक्ट के लिए तो चीन ने काफी मेहनत की। चीन अब भी इस प्रोजेक्ट का कॉन्ट्रैक्ट पाने की कोशिश कर रहा है लेकिन भारत ने अब तक उसे कोई जवाब नहीं दिया है।

- बुधवार चीन की फॉरेन मिनिस्ट्री के स्पोक्सपर्सन गेंग शुआंग से भारत और जापान के बीच बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट पर सवाल पूछा गया। इस पर उन्होंने कहा- हम रीजनल कोऑपरेशन बढ़ाने पर फोकस करना चाहते हैं। इस क्षेत्र के देशों को हाई स्पीड रेल नेटवर्क से जोड़ने में मदद के लिए चीन तैयार है। 

- शुआंग ने कहा- हम भारत और इस क्षेत्र के बाकी देशों को हाई स्पीड रेल नेटवर्क तैयार करने में मदद देना चाहते हैं। भारत के साथ प्रैक्टिकल कोऑपरेशन की जरूरत है। इस बारे में बातचीत भी चल रही है। उम्मीद है कि ये बातचीत जल्द किसी नतीजे पर पहुंचेगी। 

- शुआंग ने कहा कि हाई स्पीड रेल प्रोजेक्ट्स को लेकर जिन अथॉरिटीज को फैसला लेना है, उनसे चीन की अथॉरिटीज बातचीत कर रही हैं। शुआंग ने कहा कि भारत के रेल इंजीनियर्स को चीन में ट्रेनिंग दी जाती है। बता दें कि चीन में दुनिया का सबसे बड़ा हाई स्पीड रेल नेटवर्क है। चीन भारत के कुछ रेलवे स्टेशंस को रिनोवेट भी कर रहा है। इसके अलावा रेल यूनिवर्सिटी बनाने में भी चीन भारत की मदद कर रहा है।

Related news

Don’t miss out