न्याय और न्यायपालिका के हित में उठाई आवाज: जस्टिस कुरियन जोसेफ

देश | Jan. 13, 2018, 3:06 p.m.


नई दिल्ली ( 13 जून ): सुप्रीम कोर्ट के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ जजों को प्रेस कॉन्फ्रेंस करके ये बताना पड़ा कि सुप्रीम कोर्ट में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। प्रेस कॉन्फ्रेंस में चार सीनियर जज जस्टिस चलमेश्वर, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन भीमाराव लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसेफ मौजूद थे।

4 वरिष्ठ जजों में शामिल कुरियन जोसेफ ने शनिवार को कहा कि उनके द्वारा उठाए गए मुद्दों को सुलझा लिया जाएगा। कल 4 जजों ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सीजेआई दीपक मिश्रा पर मनपसंद जजों को महत्वपूर्ण मामले सौंपने का आरोप लगाया था। जोसेफ ने कहा कि हमने यह मामला पूरी तरह न्याय और न्यायपालिका के हित में उठाया है। ऐसा पहली बार हुआ है, जब सुप्रीम कोर्ट के जजों ने किसी आंतरिक मामले को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस की हो।

प्रेस कॉन्फ्रेंस कर शीर्ष अदालत के अनुशासन को भंग करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि ऐसा कुछ नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है कि इस ऐक्शन के चलते सुप्रीम कोर्ट के प्रशासन में अधिक पारदर्शिता आएगी। केरल में अपने पैतृक आवास पर मीडिया से बातचीत करते हुए जोसेफ ने कहा कि हम न्याय और न्यायपालिका के हित में खड़े हुए हैं। इससे ज्यादा मुझे कुछ नहीं कहना है। 

जस्टिस जोसेफ ने रिपोर्ट्स से कहा, 'एक मामला प्रकाश में आया है। निश्चित तौर पर अब जब मामला सामने आ गया है तो इसका हल भी निकल सकेगा।' जस्टिस जोसेफ ने कहा कि जजों ने 'न्यायपालिका में लोगों के विश्वास को बढ़ाने' के लिए यह कदम उठाया है। 

शुक्रवार को चारों जजों ने मीडिया को बुलाकर कहा था कि शीर्ष अदालत में सब कुछ सही ढंग से नहीं चल रहा है और ऐसी चीजें हो रही हैं, जो नहीं होनी चाहिए। 
 

Related news

Don’t miss out

News