आखिर क्यों मनाया जाता है April Fool's Day, कैसे और कहां से हुई इसकी शुरुआत ?

लाइफस्टाइल | April 1, 2018, 6:41 a.m.


नई दिल्ली (1 अप्रैल): आज एक अप्रैल है। दुनियाभर में इस दिन को मूर्ख दिवस कहते हैं और इस दिन अपने दोस्तों या फिर परिचितों को फूल्स बनाने की परंपरा है। हालांकि कभी-कभी ये लोगों के लिए मुश्किलें भी पैदा कर देता है। इन सबके बावजूद लंबे असरे से एक अप्रैल को लोग एक दूसरे को फूल्स बनाते आ रहे हैं। 

प्राचीन यूरोप में नया साल हर वर्ष 1 अप्रैल को मनाया जाता था। 1582 में पोप ग्रेगोरी 13 ने नया कैलेंडर अपनाने के निर्देश दिए जिसमें न्यू ईयर को 1 जनवरी से मनाने के लिए कहा गया। रोम के ज्यादातर लोगो ने इस नए कैलेंडर को अपना लिया लेकिन बहुत से लोग तब भी 1 अप्रैल को ही नया साल के रूप में मानते थे। तब ऐसे लोगो को मूर्ख समझकर उनका मजाक उड़ाया। 1915 की बात है जब जर्मनी के लिले हवाई अड्डा पर एक ब्रिटिश पायलट ने विशाल बम फेंका। इसको देखकर लोग इधर-उधर भागने लगे, देर तक लोग छुपे रहे। लेकिन बहुत ज्यादा वक्त बीत जाने के बाद भी जब कोई धमाका नहीं हुआ तो लोगों ने वापस लौटकर इसे देखा। जहां एक बड़ी फुटबॉल थी, जिस पर अप्रैल फूल लिखा हुआ था।


ऐसा भी कहा जाता है कि पहले पूरे विश्‍व में भारतीय कैलेंडर की मान्‍यता थी। जिसके अनुसार नया साल चैत्र मास में शुरू होता था, जो अप्रैल महीने में होता था। बताया जाता है कि 1582 में पोप ग्रेगोरी ने नया कैलेंडर लागू करने के लिए कहा। जिसके अनुसार नया साल अप्रैल के बजाय जनवरी में शुरू होने लगा और ज्‍यादातर लोगों ने नए कैलेंडर को मान लिया।

Related news

Don’t miss out

News