इंदिरा को पता था उनपर हो सकता है हमला

देश | Nov. 19, 2017, 10:27 a.m.


नई दिल्ली (20 नवंबर): तमाम विरोध के बावजूद अपने फैसले पर अड़ि‍ग रहने वाली इंदिरा गांधी एक निडर नेता था। कहा जाता है कि इंदिरा को शायद इस बात का अंदेशा था कि उनके उनके ऊपर हमला किया जा सकता है।

इंदिरा ने ओडिशा में दिए अपने एक भाषण में इस बात का जिक्र भी किया था। उन्‍हें इस बात का अंदेशा था कि उनके ऊपर हमला किया जा सकता है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि ऑपरेशन ब्‍लू स्‍टार के बाद खुफिया एजेंसियों की तरफ से इस बात का संकेत आया था कि इंदिरा गांधी को अपनी सुरक्षा में लगे सिख सुरक्षाकर्मियों को हटा देना चाहिए। रिपोर्ट के मुताबिक यह सुरक्षाकर्मी ऑपरेशन ब्‍लू स्‍टार का बदला ले सकते थे।

30 अक्‍टूबर को दिए उनके आखिरी भाषण में भी इस बात को साफतौर पर देखा जा सकता है। इसमें उन्‍होंने कहा था कि "मैं आज यहां हूं, कल शायद यहां न रहूं। मुझे चिंता नहीं मैं रहूं या न रहूं। मेरा लंबा जीवन रहा है और मुझे इस बात का गर्व है कि मैंने अपना पूरा जीवन अपने लोगों की सेवा में बिताया है। मैं अपनी आखिरी सांस तक ऐसा करती रहूंगी और जब मैं मरूंगी तो मेरे खून का एक-एक कतरा भारत को मजबूत करने में लगेगा।"

31 अक्‍टूबर को जब उनके सुरक्षाकर्मियों ने उनपर दनादन गोलियां चलाकर उनका शरीर छलनी कर दिया तब यह बात हकीकत बनकर सभी के सामने आ चुकी थी। एम्‍स में खून की करीब अस्‍सी बोतल चढ़ाने के बाद भी उन्‍हें बचाया नहीं जा सका था।

Related news

Don’t miss out

News